मूल चाणक्य नीति - विज्ञान भूषण Mool Chanakya Niti - Hindi book by - Vigyan Bhushan
लोगों की राय

अर्थशास्त्र >> मूल चाणक्य नीति

मूल चाणक्य नीति

विज्ञान भूषण

प्रकाशक : किताबघर प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2010
आईएसबीएन : 9788188466672 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :172 पुस्तक क्रमांक : 8712

9 पाठकों को प्रिय

202 पाठक हैं

चाणक्य के अमूल्य वचनों को सार-रूप में प्रस्तुत करती इस पुस्तक में ‘चाणक्य नीति’ और ‘चाणक्य सूत्र’ के साथ ही ‘अर्थशास्त्र’ को भी सम्मिलित किया गया है...

Mool Chanakya Niti (Vigyan Bhushan)

आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान् विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता और क्षमताओं के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया। मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चाणक्य कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री होने के साथ ही नीतिशास्त्र के रूप में भी विख्यात हुए। इतनी सदियाँ गुजरने के बाद आज भी यदि चाणक्य के द्वारा बताए गए सिद्धांत और नीतियाँ प्रासंगिक हैं तो मात्र इसलिए क्योंकि उन्होंने अपने गहन अध्ययन, चिंतन और जीवनानुभावों से अर्जित अमूल्य ज्ञान को, पूरी तरह निःस्वार्थ होकर मानवीय कल्याण के उद्देश्य से अभिव्यक्त किया।

वर्तमान दौर की सामाजिक संरचना, भूमंडलीकृत अर्थव्यवस्था और शासन-प्रशासन को सुचारू ढंग से संचालित करने के लिए चाणक्य द्वारा बताई गई नीतियाँ और सूत्र अत्यधिक कारगर सिद्ध हो सकते हैं। उनके सिद्धांतों में निहित अर्थों की महत्ता समझते हुए ही कई विश्वविद्यालयों और प्रबंधन संस्थानों में भी ‘चाणक्य नीति’ पर शोध और अध्ययन किया जा रहा है। ऐसे विलक्षण व्यक्ति के अमूल्य वचनों को सार-रूप में प्रस्तुत करती इस पुस्तक में ‘चाणक्य नीति’ और ‘चाणक्य सूत्र’ के साथ ही ‘अर्थशास्त्र’ को भी सम्मिलित किया गया है।


To give your reviews on this book, Please Login