बाँस का अंकुर - धीरुबहन पटेल Bans Ka Ankur - Hindi book by - Dhiruben Patel
लोगों की राय

परिवर्तन >> बाँस का अंकुर

बाँस का अंकुर

धीरुबहन पटेल

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2009
आईएसबीएन : 0 मुखपृष्ठ :
पृष्ठ :120 पुस्तक क्रमांक : 7612

8 पाठकों को प्रिय

224 पाठक हैं

अत्यंत नियंत्रित वातावरण में पले युवक द्वारा स्वयं की खोज की कहानी...

Bans Ka Ankur - A Hindi Book by Dhiruben Patel

भूमिका

मूलतः गुजराती में लिखी गई धीरूबहन की सशक्त कहानी। इस पुस्तक का हिन्दी अनुवाद श्रीमती कमलेश सिंह ने किया है। एक अत्यंत नियंत्रित वातावरण में पला बढ़ा युवक किस तरह से अपने आपको खोजता है। यह एक अलग बात है कि इस स्वतंत्र अस्तित्व की खोज में वह पुनः उन्हीं गुणों को प्रतिबिम्बित करता है, जिनसे कभी उसकी लड़ाई थी। उल्लेखनीय है कि, पुस्तक का अनुवादन बहुत ही सटीक ढंग से किया गया है और ऐसा लगता ही नहीं कि मूल कहानी किसी और भाषा या अहिन्दी भाषी अंचल के लेखक द्वारा लिखी गई है।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login