केदार साहब - मोहन थानवी Kedar Sahab - Hindi book by - Mohan Thanvi
लोगों की राय

उपन्यास >> केदार साहब

केदार साहब

मोहन थानवी

प्रकाशक : विश्वास प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2009
आईएसबीएन : 00000000 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :80 पुस्तक क्रमांक : 7565

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

203 पाठक हैं

देवनागरी सिन्धी उपन्यास केदार साहब...

Kedar Sahab - A Hindi Book - by Mohan Thanvi

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

अजुकाल्ह साहब लोकनि जो जमानो आहे। हर का माण्हू साहब थो चवाइणो चाहे। लेकिन केदार साहब एहिड़नि माण्हूनि में कोन्हें। हाणे चवाइन्दो जरूर आहे केदार साहब, लेकिन कुढु वक्तु अगिमें माण्हू उनिखे केदारा या केदारो चइ चेड़ाइन्दा हा। केतिरी अजीबोगरीब गाल्हि आहे। सिन्दू संस्कृतिअ मंझ नाल्हा रखण जो तरीको माण्हूअ जी रिहाइष, खानदान खे यकदमु सुंञाणप थो डे लेकिन अजुकाल्ह माण्हू पहिंजे नाल्हे जी सुंहि था डिसनि, मकसदु गुमु थी वियो आये। डिसो, जो कडहिं केदार षर्मा नाल्हो हुजे त खबरु नथी पवे, केदार केरु आहे। सिन्धी, पंजाबी, गुजराती या राजस्थानी। ऐं केदार साहब चवूं था त बि उव्हाइ गाल्हि आगे लेकिन अंगरेजनि सवनि वरयहनि जे रात में असांजे मुल्हनि ते काह कई ऐं नन्ढुरियूंनि मगर वजनदारि गाल्हिनि खे केंहि हदि तांई धंसे वया। उननि मंझ इ हिकु नाल्हो रखण या मटाइण जो मसलो बि आहे। खैरु, केदार साहब चवूंसि या केदार सिन्धी, आहे त असांजे इ समाज जो पुरुषार्थी। मगर पहिंरी उनखे केदारो या केदार सिन्धी चवण वारा मूं जेहिड़ा माण्हू हाल फिलहाल केदार साहब छो चवणि लग्यासे ! इनते विचारु करिण सां गाल्हि समुझ में आई, जमाने सां गडु हलणि जी लालसा करे। सचु, जमाने सां गडु हलणि मंझ पहिंजो हिकु जुदा इ आनंद आहे, हिक निराली अलमस्त लस्त आहे। मजो आहे। हा, पहिंजनि मुल्हनि खे संभारणि बि जरूरी आहे, जींअ त असांजे हीरो केदार साहब पहिंजे जीवन में कयो। गाल्हि फकतु केदार साहब जी कोन्हें। जमाने जे अजीबोगरीब ऐं सुख-दुख सां भरियलि रंगनि में रंगयलि उनि जेहिड़नि केतिरनि इ किरदारनि जी आहे, जेके सिन्धी संस्कृति जा दीवाना आहिनी अंगरेजियत खे बि दिल मंझु कढ़ी कोन था सघनि । हयातीअ मंझ...बिरहांडे खां पोइ असां सिन्धिनि जी हयातीअ मझ जेके बदलाव आया, उननि खे अजु जी नई टेही कोन समझी थी सघे। झूना माण्हू समझाए कोनि था सघनि छो जो सिख्या ऐं घरनि में संस्कारनि खे बारनि मंझ विझण वारा नाना, नानियूं, डाडा, डाडियूं अजु खुद टीवी संस्कृतिअ जो अगियूं लाचारु नजरनि था।

जींअ त केदार जी माता। अम्मड़। सिन्धु जी अम्मड़। असांजी सिन्धु अम्मड़। केदार साहब जा बारु नसीबनि वारा आहिनी जो उननि खे उननिजी डाडी, सिन्धुअ जी अम्मड़ सिन्धु जी गाल्हियूं बुधाए रही आहे। सचपुचु। केदार साहब जी इनि पीड़ा में, उनजे सन्धु भ्रमण, (घुमण) जे सुपने सां साम्हूं आयालि असांजे सिन्धु–समाज जा हालात, घरनि मंझ बारनि जी दुनिया, बुढ़नि जा ख्यालात, पहिंजी सिन्धी लोककथाउनि जो वजनु ऐं पहाकनि, पिरोलियूंनि सां गडु अजु जे किरदारनि ऐं उननिजी कैफियत डिसण में अचे थी। केदार साहब अजु बि पाण खे सिन्धी चवाइण थो चाहे लेकिन कुढ वक्तु अगु खुद इ पाण खे साहबलोकनि में शुमार करिण जो उनजो मोहि ऐं कयलि कमु खुद उनिजी गाल्हि खे टोड़े थो। इये गाल्हियूं इनि वक्त फकतु अशफाकु या माधोदास कोनि था सोचनि। बल्कि खुद केदार जे दिलोदिमाग मंझ बि उनजी हयातीअ सां बाबस्ता ऐहिड़ीयूं गाल्हियूं रेल वांडुरू पइयूं डुकनि। केदार साहब निंड में आहे। सुपनो तो डिसे। सचपुचु सभई माण्हू जागन्दे बि सुपननि जी दुनिया में रहन्दा आहिनि। केदार त वरी बि सुपने में बियनि खे जागीन्दड़ तो डिसे। उननि जा ख्याल समझे थो। रेल डुकी रही आहे सिन्धु-पाक डाहूं। हा, उनि तरहां सांइ, जींअ अजु माण्हूनि जा मन वरी अखंड भारत मंझ पहिंजी सुहिणी... मिठड़ी, प्यारी अम्मड, मादरेवतन सिन्धु खे शुमारु डिसणि जो सुपनो डिसी रहिया आहिन। माण्हू पहिंजे इन सुपने खे सच करिण काणि जतन करे रहिया आहिनि, सिन्धु भूमिअ ते वरी वंञी वसणि लाइ डोड़े रहिया आहिनि। सभननि खे विश्वास आहे, सुपनो जरूरु पूरो थीन्दो मगर मुश्किलात बि साम्हूं इन्दियूं। जीअं त केदार साहब जे साम्हूं सिन्धु वंञी घुमी अचणि जे सुपने में बि मुश्किलियूं आहियूं। सचपुचु, इया समूरी गाल्हि सभिनी खे बुधाइण जेहिड़ी आहे त साहब चवाइण मंझ को डोहि कोन्हें मगर हालातुनि सां मुकाबिलो करिण ऐं पहिंजीअ सिन्धु–संस्कृतिअ सां मुहब्बत करिण जो हौसलो बि केदार साहब जेहिड़ोइ हुजण घुरुजे। केदार खे माण्हू साहब छो चवण लगा, इया गाल्हि दिलचस्प त आगे मगर इनमें केदार जे दिलु जा फफोला बि सूरु था कनि। उननि फफोलनि खे सहलाइण जरूरी आहे। गुजिरियलि गाल्हियूंनि खे अगिते जी चंङाइअ लाइ यादि करिण सुठोइ थीन्दो आहे। केदार साहब सा थियलि कुढ गाल्हिनि सां गडु बियुनि किरदारनि जे अफसाने खे बि खुद केदार इनि वक्तु रेल मंझ सफरु कन्दे यादु थो करे। लेकिन ओछतोइ पहिंजे दोस्त जो आवाजु बुधी छिणकु थो भरे सुपननि जी दुनिया अजीब आहै। सुपने में सुपनो त उनखां बि वधीक अजीब। उनजो दोस्त माधोदास उनिखां पुछी रहियो हो–

अरे ! केदार साहब, तुहिंजे सिन्धु-सियाहत करिण जो सुपनों हकीकत में मटजी वियो पर तूं अंञणि मुंझलि थो लगें ! छो भला !
मुखे इयो यादु न डोराय। पोयें महीनेखनि खां मां इनिनि गाल्हिनि में इ माण्हुनि जे दिलुनि में सिन्धु-दर्षन करे रहिये आहियां।

इयो कींअ भला ! छा, हिति रेल में बि !
हा, हिति रेल में बि ! दोस्त, अजु असांखे खोखरापार डाहुं रवाना थिअण जो वंझु लगो आहे। इये सफरु आहे बहिंजी सिन्धु डिसण लाइ।

सच, इये पंद्रहां डिंहं कींअ गुजरी वेन्दा, खबरु कोनि पवन्दी।
थी सघन्दोआ, तोखे खबरु न पवे। दोस्त, मां त जडहिं खा पहिंजे परडाडे जो पाड़े ऐं हिंतूं जा हाल–अहवाल बुधा आहिनि तडहिं खा मुंझियलु आहियां। मुहिंजा हालात बि मुखे पोयनि हाल्हनि खे विसरणि कोनि था डिअनि।

हा, इननि सभिनी गाल्हिनि जी जाण मूखे बि आहे।
दोस्त, तोखे पहिंजी जैसलमेर या जयपुर, मुम्बई, इन्दौर, केरल या गुजरात में रहन्ड़नि माण्हुनि जो हालातुनि जी जाण बि रखण घुरुजे।
केदार साहब तूं इया गाल्हि केंहिं ख्यालि सां चई आहे।

माधोदास, मां या तूं, तुहिंजी धीअ सुमित्रा या मुहिंजी माउ सखीबाई या असांजा सुंञाणपि वारा, मिटमाइटि सभई त पहिंजा हालात ठाहिण में लगा पया आहियूं।
हा, गाल्हि कुझु कुझु समुझ में अचे थी।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login