करतार सिंह - मोहन थानवी Kartar Singh - Hindi book by - Mohan Thanvi
लोगों की राय

उपन्यास >> करतार सिंह

करतार सिंह

मोहन थानवी

प्रकाशक : विश्वास प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2005
आईएसबीएन : 000000 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :88 पुस्तक क्रमांक : 7564

Like this Hindi book 2 पाठकों को प्रिय

401 पाठक हैं

प्रस्तुत है सिन्धी उपन्यास करतार सिंह...

Kartar Singh - A Hindi Book - by Mohan Thanvi

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

अरे करतार तूं हिति कींअं ! छा थो करें अजुकल्ह।

सिटी पैलेस में बारनि लाइ इलेक्ट्रोनिक रांदीका खरीद कन्दे करतार सिंह डिठो त रोहित उन्हींअ डाहं खिलन्दो डिसी रहि्यो आहे। करतार सिंह रोहित खे बुधायो त हू पहिंजे पोटे सुधांशुअ जे लाइ गिफ्ट वठण आयो आहे। सुधांशु दुबईअ में रहिन्दो आहे, पहिंजे माउ–पीउ वटि।

रोहित चयुसि, इयो त ठीक आहे पर तूं हिति दुबईअ में कींअं पहुंतें।
करतार सिंह रोहित खे कॉफीशॉप में वठी वयुसि ऐं ई जणा पेप्सीय जो केन वठी चुस्कियूं वठण लगा ।

रोहित सां गडिजे करतार सिंह खे वीहनि सालनि जो वक्फो गुजरी वियो हुयो पर उन्हनिजी यारी-दोस्ती अंदाज़नि सठ साल जूनी सक्खर, सिन्धु पाकिस्तान जे जमाने जी आहे। तडंहं रोहित त रोहित ही हुयो पर करतार सिंह उन वक्त हरिप्रसाद नाले सां सुंञाणप वारो हुयो। सिन्धु पाकिस्तान जे सक्खर में गुजारियलु वक्त खूं पोए करतार सिंह खे रोहित अंदाज़नि वीहनि साल पहिरयूं दिल्लीअ जे हिक मानु बधाइण वारे जलसे में गडिजियो हुयो। जलसे में गडिजण खां अगु विरहाड़ो थी वंञण खूं पोय जा साल कींअं गुजरी विया इहो बिन्हनि लाइ सुपने वांगर हुयो।

दिल्लीअ जे जलसे में बि जडहं करतार सिंह खे इनाम डेहण लाइ मंच ते सडु थियो उन वक्ति रोहित जरा बि सोचे न सघियो त ही माण्हू उन जो यार हरि हुन्दो पर जींयइं करतार सिंह मंच ते पहुंतो ऐं प्रधानमंत्रीअ जे हथूं पहिंजो इनाम वड़तईं तींअई रोहित वायरिनु वांगर उन खे डिसिन्दो रहिजी वियो। प्रधानमंत्रीअ स्वतंत्रता सेनानिनि जो हिक सादे जलसे में मानु वधाइण जे लाइ मुल्क जे सभिनी स्वतंत्रता सेनानिनि खे दिल्लीअ घुरायो हुयो। उन्हनि में मुंबईअ मां रोहित ऐं अहमदाबाद मां करतार सिंह बि शामिल हुयो। जलसे में अंदाज़नि डेढ़ सौ माण्हु शामिल थिया हुआ। इनाम-इकरामु वठण खां पोय रोहित करतार सिंह सां गडिजियो ऐं उन्हींअ खे पहिंजो शकु जाहिर कयइ त हूं उन्हीअखे हरिप्रसाद समझी रहियो आहे। कतरात सिंह बि रोहित खे सुञांणे वरिते ऐं उन्हींअ खे बधाइइं त हाणे हू करतार सिंह आहे हरिप्रसाद कोन्हे।

पेप्सी पीअन्दे-पीअन्दे गिजिरियल जमाने जूं गाल्हियूं करतार सिंह जे दिमाग में घुमी रहियूं हुयूं। रोहित उन्हींअजी विचारिनि जी आंधीअ खे झल डइ करे पुछयइंस–करतार यार वीहनि सालनि खां पोय गडिजिओ आहिं, उवो बि हिति परदेस में यार बधाय त सईं मुहिंजे वांगर तू बि इन्हींअ हयातीअ में हिति दुबईअ में छा प्यो करें ?

करतार सिंह जे मनु ते जेके यादुनि जो बादुलनि जो परदो अची वियो हुयो उन्हनि में समुझजे त रोहित बिजुली चमुकाइणु जो कमु कयइं। करतार सिंह जे दिमाग में इन्हींअ हिक सैकिंड में खबर नाहें त केतरा विचार हिकु साण अची रहिआ हुया। हू उन्हनि विचरनि ते काबू रखणु जी डाढी कोशिश प्यो करे पर विचार इअं प्या अचन्सि जीअं त सतुनि तालुनि में बंद कमरे में बि हवा पहुंची वन्दी आहे। पहिंजा ऐहड़ा हालात डिसी करे करतार सिंह खे चवुणो प्यो त दोस्त 70 सालनि जी आखाणी हिति भीटे-भीठे कींअं बधायहिं। रोहित खिल्ही प्यो। उवा इ बेफिक्रीअ वारी खिल। जेका हू अंगरेजनि जी नकुल करिण वेल खिली करे सभिनी खे पहिंजो ठाहे वठिन्दो हुयो।

गुजरियल जमाने जी गाल्हिनि जी यादियूं करतार सिंह जे दिमाग में समुझजे त समुंड जी लहरनि वांगर अची रहियूं हुयूं ऐं उनं समुंड में टुबियूं खाइन्दे-खाइन्दे करतार सिंह सक्खर जे उन्हींअ जमाने में वरी पहुंची वियो जेंहिं जमाने में हू ऐं रोहित अंगरेजनि खे हिन्दुस्तान मां भजाइणु जे लाइ सोचिन्दा हुआ। फकतु सोचिन्दाइ कोन्ह हुया बल्कि एहड़ा कमु बि कन्दा हुआ जिन्हनि जे करे अंगरेजनि जी हवा खिस्की वेन्दी हुई। अंगरेजनि खे हिन्दुस्तान मां भजाइण जे लाइ प्लान ठाइन्दा हुआ। हेमूं कालाणीअ वांगर उवे बि पामखे हिन्दुस्तान जी अमानत मनिन्दा हुआ। रोहित जी खासियत हुई त हूं बनि जी नकुल करिण में, यानी त मिमिकरीअ में हुशारु हुयो, मास्तरनि जी ऐहिड़ी नकुल कन्दो हुयो त सभई खिली-खिली पहिंजे पेट में सूरु करे वठुन्दा हुया। अंगरेजनि जी नकुल करणि जे लाइ त हू सक्खर जी कुंड-कुड्छ में सुञांतो वेन्दो हुयो। इन्हींअ खासियत जे करे स्कूल जे फंक्शननि में रोहित खे ऐहड़े किरदार जे रूप में पेश कयो वेन्दो हुयो जेको सभिनी किरदारनि जो सिरमौर समझियो वंञे। रोहित जे मंच ते अचणु जी अनाउन्समेंट थीन्देई डिसणु वारा तारियूं वजाअए हॉल खे गुंजाअए छडिन्दा हुआ। रोहित जो पेश कयुलि नंबर वन प्रोग्रॉम हिकु ही हुन्दो हुयो, अंगरेजनि जी नकुल करणी। इयो कमु रोहित जी मनपसंद जो थिन्दो हुयो पेश करिन्दड़ आइटम जी रिहर्सल ऐं मसौदे जे लाइ मास्तरनि जी परमिशन जी उन्हीअ खे घुरजु कान्ह हुन्दी हुई।

रोहित अंगरेजनि जे लहिजे में चइन्दो हुयो :–अरे बाबा तव्हां कारा-कारा माण्हु असांजे सामुं न अचो, परे थी वंञो असांजे रस्ते मूं।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login