तीन में से घटा तीन - महिम बरा Teen Mein Se Ghata Teen - Hindi book by - Mahim Bara
लोगों की राय

अतिरिक्त >> तीन में से घटा तीन

तीन में से घटा तीन

महिम बरा

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया प्रकाशित वर्ष : 2003
आईएसबीएन : 81-237-2115-3 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :22 पुस्तक क्रमांक : 6157

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

247 पाठक हैं

प्रस्तुत है कहानी तीन में से घटा तीन .....

Teen Mein Se Ghata Teen-A Hindi Book by Mahim Bara

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

तीन में से घटा तीन


रविवार का दिन था। खेत पर कोई काम नहीं था। पूरनकान्त आराम से लेटा था। बड़ा लड़का पीढ़े पर बैठा हिसाब का सवाल कर रहा था। सवाल था घटाने का। दो में से पांच नहीं घटा सका। अब एक दहाई उधार लेना होगा। एक दहाई मतलब दस। दो पहले से थे अब कुल बारह हुए। बारह में से घटा पांच। बाकी बचा सात। उधर बचा तीन। तीन में से घटा तीन, माने कुछ नहीं। यानी शून्य।

लड़का हिसाब में मग्न था। पूरनकान्त सोचने लगा, ‘‘इतनी आसानी से दस का उधार मिल गया ? एक नहीं, दो नहीं सीधे दस ? यह उधार दिया किसने?’’ वह फिर सोचने लगा, ‘‘तीन और तीन जुड़ क्यों नहीं जाते ? हां, तीन में से तीन घट जाता है।’’

पत्नी रसोई में थी। मंझले छोटे बेटे को खाना खिला रही थी। चिल्ला भी रही थी, ‘‘अरे नहीं है रे। हांडी में जरा सा है। वह भी तुझे दे दूं तो तेरे बाप को क्या दूंगी ?’’ बाप बाजार जायेंगे। वहां से गुड़ लायेंगे। तब खाना। उसने बात पूरी की। अब दूसरे को डांटा, ‘‘मत ले, मत ले वह। तेरा बाप क्या फीकी चाय पियेगा ? गाय दूध नहीं देती। खीचतान के बाद इतना ही दूध निकलता है। बिना दूध के ही चाय पी ले।’’ पूरन सब सुन रहा था। जाने क्यों, उसे हंसी आ गई।

To give your reviews on this book, Please Login