थम्बलीना - ए.एच.डब्यू. सावन Thumblina - Hindi book by - A.H.W. Sawan
लोगों की राय

मनोरंजक कथाएँ >> थम्बलीना

थम्बलीना

ए.एच.डब्यू. सावन

प्रकाशक : मनोज पब्लिकेशन प्रकाशित वर्ष : 2007
आईएसबीएन : 81-310-0207-1 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :16 पुस्तक क्रमांक : 4770

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

120 पाठक हैं

बच्चों के लिए रोचक एवं मनोरंजक कहानियाँ....

Thamblina -A Hindi Book by A.H.W. Sawan

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

थम्बलीना

बहुत पुरानी घटना है, एक विवाहित महिला थी जो वर्षों से संतान के लिए तरस रही थी। उसे न बेटा नसीब हुआ था न बेटी। वह लगभग निराश हो चली थी।
तभी संयोग से उसकी भेंट एक बूढ़ी तपस्विनी से हुई। विवाहिता बोली, ‘‘मां मुझे एक संतान चाहिए। क्या आपसे मुझे यह आशीर्वाद मिलेगा ?’’

‘‘यह कोई बड़ी बात नहीं है’’, तपस्विनी मुस्कराकर बोली, ‘‘यह मक्की का दाना लो। अपने घर के पास इसे बो देना और देखना चमत्कार !’’

बड़ी आशा के साथ महिला ने वह दाना घर की दहलीज के सामने बो दिया। मौसम ठीक रहा और कुछ ही दिनों में अंकुर फूटा। पौधा बढ़ने लगा-पर वह मक्की जैसा नहीं लगता था।
पौधे की चोटी पर एक फूल खिला-विचित्र नस्ल का। फूल की एक डंडी थी व चारों ओर लाल-पीली पंखुरियां। महिला को वह फूल इतना प्यारा लगा कि उसने अपने हाथों के कटोरे में उसे थाम चूम लिया।


अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login