लोगो की राय

विविध >> महापुरुषों के 5001 अनमोल वचन

महापुरुषों के 5001 अनमोल वचन

चेतन प्रकाश

6.95

प्रकाशक : मनोज पब्लिकेशन प्रकाशित वर्ष : 2006
आईएसबीएन : 81-8133-340-3 पृष्ठ :217
आवरण : पेपरबैक पुस्तक क्रमांक : 3933
 

विश्व के प्रसिद्ध साहित्यकारों,राजनेताओं,महापुरुषों के अनुभवों का सार....

Mahapurushon 5001 anmol vachan

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

महापुरुषों के 5001 अनमोल वचन

जो जीवन को दें सही दिशा
वक्ता हो या संत हो, विद्वान हो या लेखक हो, राजनेता हो या फिर कोई प्रशासक—अपनी बात कहने के साथ-साथ वह उसे सार-रूप में कहता हुआ एक माला के रूप में पिरोता चलता है। इस सार-रूप में कहे गए वाक्यों में ऐसे सूत्र छिपे रहते हैं, जिन पर चिंतन करने से विचारों की एक व्यवस्थित श्रृंखला का सहज रूप से निर्माण होता है। उस समय ऐसा लगता है मानो किसी विशिष्ट विषय पर लिखी गई पुस्तक के पन्ने एक-एक करके पलट रहे हों।

सूत्ररूप में कहे गए ये कथन आत्मविकास के लिए अत्यंत उपयोगी हैं। इसीलिए व्यक्तित्व विकास पर कार्य कर रहे अनुसंधानकर्ताओं और विद्वानों का कहना है कि प्रत्येक आत्मविकास के इच्छुक को चाहिए कि वह अपने लिए आदर्शवाक्य चुनकर उसे ऐसे स्थान पर रख या चिपका ले, जहां उसकी नजर ज्यादातर पड़ती हो। ऐसा करने से वह विचार अवचेतन में बैठकर उसके व्यक्तित्व को गहराई तक प्रभावित करेगा।

इन वाक्यों का आपसी बातचीत में, भाषण आदि में प्रयोग करके आप अपने पक्ष को पुष्ट करते हैं। ऐसा करने से आपकी बातों में वजन तो आता ही है लोगों के बीच आपकी साख भी बढ़ती है।
प्रस्तुत पुस्तक को तैयार करते समय ‘अनमोल वचनों’ को पाठकों की सुविधा के लिए हमने विशिष्ट शीर्षकों के अंतर्गत रखने का प्रयास किया है लेकिन जहां ऐसा संभव नहीं हो पाया है, वहां उन्हें स्वतंत्ररूप में रखा गया। यह पुस्तक प्रत्येक क्षेत्र से जुड़े व्यक्तियों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी, ऐसा हमें विश्वास है।

प्रकाशक

शुभ विचार

लोग जीवन में कर्म को महत्त्व देते हैं, विचार को नहीं। ऐसा सोचने वाले शायद यह नहीं जानते कि विचारों का ही स्थूल रूप होता है कर्म अर्थात् किसी भी कर्म का चेतन-अचेतन रूप से विचार ही कारण होता है। जानाति, इच्छति, यतते—जानता है (विचार करता है), इच्छा करता है फिर प्रयत्न करता है। यह एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसे आधुनिक मनोविज्ञान भी स्वीकार करता है। जानना और इच्छा करना विचार के ही पहलू हैं ।

आपने यह भी सुना होगा कि विचारों का ही विस्तार है आपका अतीत, वर्तमान और भविष्य। दूसरे शब्दों में, आज आप जो भी हैं, अपने विचारों के परिमामस्वरूप ही हैं और भविष्य का निर्धारण आपके वर्तमान विचार ही करेंगे। तो फिर उज्ज्वल भविष्य की आकांक्षा करने वाले आप शुभ-विचारों से आपने दिलो-दिमाग को पूरित क्यों नहीं करते।

ख़ंज़र की क्या मजाल जो इक ज़ख़्म कर सके।
तेरा ही है ख़याल कि घायल हुआ है तू।।

स्वामी रामतीर्थ

समर्पण
यह संकलन समर्पित है उन महापुरुषों के प्रति जिनके सुगंधित और सुंदर वाक्य-पुष्पों से इसे सजाया गया है।

संपादकीय

शब्द ब्रह्म है। भारतीय दर्शकों में शब्द को उत्तम प्रमाण माना गया है। इस संदर्भ में एक अत्यंत प्रचलित कथा का उल्लेख करना यहां युक्तिसंगत होगा। कथा इस प्रकार है—
दस व्यक्तियों ने बरसाती नदी पार की। पार पहुँचने पर यह जांचने के लिए कि दसों ने नदी पार कर ली है, कोई नदी में डूब तो नहीं गया, एक ने गिनना शुरू किया। उसके अनुसार उनका एक साथी नदी में बह गया था। एक-एक करके सभी ने गिनती की, प्रत्येक का यही मानना था कि कोई बह गया है। सभी उस दसवें व्यक्ति के लिए रोने और विलाप करने लगे।

वहां से गुजर रहे एक बुद्धिमान व्यक्ति ने जब उनसे रोने तथा विलाप करने का कारण पूछा, तो उन्होंने सारी बात कह सुनाई। उस व्यक्ति ने उनको एक पंक्ति में खड़ा होने को कहा। जब सब पंक्ति में खड़े हो गए, तब उनमें से एक को बुलाकर उससे गिनने को कहा। उस व्यक्ति ने नौ तक गिनती गिनी और चुप हो गया। तब आगन्तुक ने कहा दसवें तुम हो’ इतना सुनते ही सारा रोना-विलाप करना अपने आप, बिना किसी प्रयास के समाप्त हो गया। आगंतुक ने क्या किया ? उसके शब्दों ने ही रोने-बिलखने को विदाई दिलवा दी।

ऐसे एक नहीं अनेक उदाहरण मिल जाएँगे, जिनसे इस बात की पुष्टि होगी कि एक वाक्य ने किसी की जीवनधारा ही बदल दी। आपने कहानी सुनी होगी यह छोटी-सी कहानी, जो कुछ ठगों ने मिलकर एक व्यक्ति को, जो बछिया ले जा रहा था, यह विश्वास दिला दिया कि वह हछिया नहीं, बकरी ले जा रहा है। एक विचार यदि आपके अचेतन पर बराबर चोट करे तो आपकी दृष्टि में परिवर्तन हो जाता है।

आद्यशंकराचार्य से जब उनके शिष्यों ने पूछा कि इस संसार-चक्र से मुक्त होने का क्या उपाय है, तो उनका जवाब था-केवल विचार ही। इसीलिए प्रत्येक धर्म-संप्रदाय और जाति के महान पुरुषों ने सुझाव दिया कि जिस दिशा में आप अपने व्यक्तित्व को विकसित करना चाहते हैं, उससे संबंधित विचार को आप किसी ऐसी जगह रखे या चिपकाएं, जहां आपकी नजर बार-बार जाती हो। वाक्य का अर्थ आपके भीतर बूस्टर की सी प्रतिक्रिया करेगा। श्रीमद्भागवद्ग गीता में श्रीकृष्ण ने स्पष्ट कहा कि मनुष्य को स्वयं से स्वयं का उद्धार करना होगा। कोई किसी की अवनति के लिए न तो उत्तरदायी है, न ही कोई किसी की उन्नति में अवरोध पैदा करता सकता है। मंथरा ने कैकेई में परिवर्तन कैसे किया ? कैसे वह राम के राजा बनने में विरोधी बन गई ? कैसे उसने अपने पति दशरथ की मृत्यु और अपने वैधव्य की परवाह नहीं की ? सरस्वती ने क्या किया ? बुद्धि हरने का क्या अर्थ है ? इन सभी सवालों का जवाब आपको विचारों के परिवर्तन के इर्द-गिर्द ही घूमता मिलेगा। जिसने ‘क्रिश्चियन साइन्स’—एक ऐसा उपचार पद्धति जिसमें रोगी अपने स्वस्थ होने के विचारों से स्वयं पूरित करता है और स्वस्थ हो जाता है—का विकास किया, वह स्वयं विचारों के प्रभाव को भोग चुकी थी। तात्पर्य यह है कि एक ही विचार की बारंबारता के प्रभाव की गहराई का आपको एकदम पता नहीं चलेगा, लेकिन कुछ दिनों के बाद उसके फलस्वरूप होने वाले परिवर्तन को आप स्वयं महसूस करेंगे।

महापुरुषों के वाक्यों को पढ़ते समय उनके व्यक्तित्व की गरिमा भी आपको प्रभावित करती है, जिससे अचेतन मन वैसा करने या न करने को विवश हो जाता है। इस प्रकार की बेबसी की स्थिति व्यक्तित्व के विकास के लिए अनुकूल वातावरण पैदा करती है, क्योंकि तब आपके मन के पास मनमानी करने का न तो अवसर होता है, न ही सामर्थ्य।
अनुभव में एक बात और आई है कि कभी-कभी आपकी ऐसी शंका का समाधान एक छोटा-सा वाक्य कर जाता है, जिसके लिए आप लंबे समय से भटक रहे होते हैं। ‘देखन में छोटे लगें, घाव करें गंभीर’ वाली इन वाक्यों के साथ लागू होती है। बातचीत करते समय, भाषण देते समय, बहस करते वक्त या लिखते समय जब आप इन वाक्यों द्वारा अपने कथन की पुष्टि करते हैं तो आपकी बात में वजन आ जाता है, आपके व्यक्तित्व को प्रभावशाली बनाने में इनसे सहायता मिलती है। सुनने-पढ़ने वाले ‘कुएं का मेढक’ नहीं समझते।
हमें विश्वास है कि यह संकलन आपके व्यक्तित्व को विकसित कर आपके जीवन में नई स्फूर्ति का संचार करते हुए आपमें आत्मविश्वास पैदा करेगा कि आपसे श्रेष्ठ कोई नहीं है और कौन-सा काम ऐसा है, जिसे आप नहीं कर सकते।


सभ्यता के प्रति



सभ्यता एक उद्देश्य हीन है सपना भर
ऊपर से ऊंचे नाम-रूप, पर क्या भीतर ?
तुम उठा रहे रजमय आंधी कृतिमता की,
तुम में अपना ही ज्ञान नहीं तुममे बाकी।
तुम शैल शिखर पर बैठे केश-विन्यास निरत,
चिन्ताओं के हित आत्मा की हत्या में रत।
करने को जग को खुश, पाने को व्यर्थ मान,
अपवित्र बनाते हो तुम निज आत्मा महान्।



तुम नीच गुलामों की सी लम्पटता में रत,
तुम फैशन के हो दास, धूर्त तुम बाइज्जत !
अनुकरण कर रहे तुम कपि से पर-धर्म रीति,
तुम तो निर्मित करते कृत्रिम आचार नीति।
‘होगा तो इससे लाभ’ ? प्रश्न यह पग-पग पर,
‘जाने क्या लोग कहेंगे’ ? तुमको प्रति पल डर।
तुम कितने कातर, क्षुद्र, वेत्रवत् निर्बल तन,
हर एक मोड़ पर जीवन के तुम पीत वदन !

स्वामी रामतीर्थ


To give your reviews on this book, Please Login