उपदेश सार - स्वामी तेजोमयानन्द Updesh Sar - Hindi book by - Swami Tejomayananda
लोगों की राय

चिन्मय मिशन साहित्य >> उपदेश सार

उपदेश सार

स्वामी तेजोमयानन्द

प्रकाशक : सेन्ट्रल चिन्मय मिशन ट्रस्ट प्रकाशित वर्ष : 2001
आईएसबीएन : 00000 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :80 पुस्तक क्रमांक : 1773

10 पाठकों को प्रिय

356 पाठक हैं

इसमें बौद्धिक वादविवादों में उलझे वेदान्त को सरल रूप में प्रस्तुत करने का यथा संभव प्रयत्न किया गया है।

Updesh Sar-A Hindi Book by Swami Tejomyanand

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

प्राक्कथन

वेदान्त एक गहन गम्भीर विषय है जिसका सरलता से निरुपण करना एक कठिन कार्य है; परन्तु  भगवान रमण महर्षि ने इसी गंभीर विषय को अत्यन्त सरल, सुन्दर एव आकर्षण रूप में प्रस्तुत किया है अपने ‘उपदेश-सार’ नामक ग्रन्थ में। मध्य प्रदेश तथा उत्तर प्रदेश के कुछ स्थानों पर चिन्मय-मिशन की शाखाओं द्वारा आयोजित ज्ञानयज्ञों (वेदान्त प्रवचन माला) में मुझे इस ग्रन्थ पर प्रवचन करने का अवसर मिला, जिसमें बिना किसी बौद्धिक वादविवादों में उलझे वेदान्त को सरल-रूप में प्रस्तुत करने का यथा संभव प्रयत्न किया गया था। सभी स्थानों पर इस ग्रन्थ को लोकप्रियता मिली और इस पर एक टीका लिखने के लिए मुझे अनेक लोगों ने आग्रह किया, परन्तु लेखन कार्य के अभ्यास के अभाव में वह कार्य मैं शीघ्र नहीं कर सका। मुझसे यह टीका  लिखवाने का श्रेय मैं मिशन की लखनऊ शाखा के सदस्यों को देता हूँ तथा इसे प्रकाशित करने का श्रेय है कानपुर शाखा को। यह टीका विशेष रूप से उन व्यक्तियों के लिए लिखी गयी है। जिन्होंने इस पर हुए प्रवचन सुने थे। आशा है अन्य व्यक्तियों को भी इससे कुछ लाभ मिलेगा।

स्वामी तेजोमयानंद

भगवान रमण महर्षि
जीवन परिचय


भगवान रमण महर्षि का जन्म 30 दिसम्बर 1879 को रामनद जिले के तिरुचुजी नामक गाँव में हुआ था। उनके पिता श्री सुन्दरम् अय्यर वकील थे। महर्षि का बचपन का नाम श्री वेंकट रमन था। इनके सम्बन्धियों और साथियों का कहना था कि बाल्यावस्था में ही इनको अनवस्थित अवस्था के दौर-से आया करते थे, किन्तु वास्तव में वह अपने  व्यक्तित्व का अन्तरावलोकन किया करते थे। उनमें बहुत गहरी और सहज भक्ति थी जो ‘‘अरुणाचल’’- तिरुवन्नैमलै पर केन्द्रित थी।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login