कामायनी - जयशंकर प्रसाद Kamayani - Hindi book by - Jaishankar Prasad
लोगों की राय

कविता संग्रह >> कामायनी

कामायनी

जयशंकर प्रसाद

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :114
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13166
आईएसबीएन :8180310736

Like this Hindi book 0

यह कृति भले ही पाठकों को गहरी रसमग्नता का संतोष न दे पर 'कामायनी' की समझ में अनेक भ्रान्तियों का निवारण करेगी और उसकी गहन अर्थ-व्यंजनाओं के उद्घाटन में मददगार होगी - व्युत्पत्यर्थ और दार्शनिक अनुषंगों की दृष्टि से

कामायनी-लोचन स्व. डॉ. उदयभानु सिंह भारतीय दर्शन और संस्कृत काव्यशास्त्र के गहन अध्येता थे। तुलसीदास पर उनके ग्रंथ अपने प्रकाशन- काल से ही निरंतर तुलसी काव्य के रसग्राही पाठकों और शोधार्थियों के लिए प्रामाणिक स्रोत-सामग्री की भूमिका निबाह रहे हैं। 'कामायनी-लोचन' उसी परंपरा को आगे बढ़ाने वाली रचना है। विद्वान लेखक ने प्राक्कथन में इस तथ्य का उल्लेख किया है कि कामायनी आधुनिक काव्य का "ऐसा गौरवग्रंथ है जिस पर सबसे अधिक आलोचनात्मक पुस्तकें तथा लेख लिखे गए हैं; सबसे अधिक टीकाएँ लिखी गई हैं, सबसे अधिक शोधपरक निबंध एवं प्रबंध प्रणीत हुए हैं, और सर्वाधिक विवाद भी हुआ है।'' यह कथन इस सामग्री से उनके बाखबर होने का प्रमाण है। इस सामग्री की खूबियों या खामियों पर उन्होंने कोई टिप्पणी नहीं की। विनम्रतापूर्वक बस इतना जोड़ा कि "'कामायनी' के विषय में बहुत-कुछ कहा जा चुका है, परंतु बहुत-कुछ अनकहा भी रह गया है। अतएव उनके अध्ययन की शृंखला को आगे बढ़ाने की आवश्यकता है। 'कामायनी-लोचन' उसी शृंखला की एक कड़ी है।''
कहना न होगा कि 'कामायनी-लोचन' हिन्दी में कामायनी की टीका-व्याख्याओं की किसी चली आती अधूरी परंपरा की पूरक कड़ी भर नहीं है। उसमें जो कहने से रह गया उसे कहकर रिक्त स्थान की पूर्ति का दायित्व निर्वाह भर करने का प्रयास नहीं है। उसका आदर्श तो संस्कृत-आचार्यों की वह समृद्ध टीका-व्याख्या परंपरा है जिसके आधार पर लेखक ने इसका नामकरण किया है। दो खंडों में विभाजित इस ग्रंथ में 'कामायनी' के सर्गों की व्याख्या-समीक्षा के साथ इसकी शब्द-सूची प्रस्तुत की गई है। प्रस्तुति की एक निश्चित प्रविधि है। ऐसा ढाँचाबद्ध पैटर्न जिससे एकरूपता और एकरसता एक साथ पैदा होती है। एक ऐसा अकादमिक अनुशासन जिसका पालन वे शिक्षक के रूप में अपनी कक्षाओं में भी करते थे। वे पहले सर्ग-वार कथा-सूत्र प्रस्तुत करते हैं, उसके बाद एक संक्षिप्त समीक्षात्मक टिप्पणी जोड़कर अंत में शब्दार्थ देते हैं - जिसे उन्होंने शब्द-सूची कहा है। इस प्रकार 'लोचन' कामायनी का शब्द-कोश भी है। अकादमिक अनुशासन के विरोधियों को इसकी विधिबद्धता से रसज्ञता और सर्जनात्मकता की कमी की शिकायत हो सकती है। भूलना नहीं चाहिए कि इसका रचयिता दर्शन, व्याकरण और काव्यशास्त्र का अध्येता विद्वान तो था, अभिनवगुप्त की तरह कवि नहीं। उनकी यह कृति भले ही पाठकों को गहरी रसमग्नता का संतोष न दे पर 'कामायनी' की समझ में अनेक भ्रान्तियों का निवारण करेगी और उसकी गहन अर्थ-व्यंजनाओं के उद्घाटन में मददगार होगी - व्युत्पत्यर्थ और दार्शनिक अनुषंगों की दृष्टि से।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book