सब जग ईश्वररूप है - स्वामी रामसुखदास 632 Sub Jag Ishwarroop Hai - Hindi book by - Swami Ramsukhadas
लोगों की राय

गीता प्रेस, गोरखपुर >> सब जग ईश्वररूप है

सब जग ईश्वररूप है

स्वामी रामसुखदास

प्रकाशक : गीताप्रेस गोरखपुर प्रकाशित वर्ष : 2004
आईएसबीएन : 00000 मुखपृष्ठ :
पृष्ठ :90 पुस्तक क्रमांक : 1165

6 पाठकों को अच्छी लगी है!

78 पाठकों ने पढ़ी है

प्रस्तुत है सब जग ईश्वररूप है....

इस पुस्तक में भक्तियोग की मुख्यता है गीता में भगवान् वासुदेवःसर्वम् की बात भक्तियोग की दृष्टि से कही है।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login