लोगो की राय

गीता प्रेस, गोरखपुर >> संसार का असर कैसे छूटे

संसार का असर कैसे छूटे

स्वामी रामसुखदास

प्रकाशक : गीताप्रेस गोरखपुर प्रकाशित वर्ष : 2005
आईएसबीएन : 00000 पृष्ठ :60
मुखपृष्ठ : पेपरबैक पुस्तक क्रमांक : 1092

प्रस्तुत पुस्तक में मनुष्य अपने जीवन पर संसार का असर कैसे समाप्त करें के विषय में बताया गया है।

Sansar Ka Asar Kaise Chhoote-A Hindi Book by Swami Ramsukhdas - संसार का असर कैसे छूटे - स्वामी रामसुखदास

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

।।श्रीहरि:।।

संसार का असर कैसे छूटे ?

साधकों की प्राय: यह शिकायत रहती है कि यह जानते हुए भी कि संसार की कोई भी वस्तु अपनी नहीं है, जब कोई वस्तु सामने आती है तो उसका असर पड़ जाता है। इस विषय में दो बातें ध्यान देने योग्य हैं। एक बात तो यह है कि असर पड़े तो परवाह मत करो अर्थात् उसकी उपेक्षा कर दो। न तो उसको अच्छा समझो, न बुरा समझो। न उसके बने रहने की इच्छा करो, न मिटने की इच्छा करो। उससे उदासीन हो जाओ। दूसरी बात यह है कि असर वास्तव में मन-बुद्धि पर पड़ता है, आप पर नहीं पड़ता। अत: उसको अपने में मत मानो। किसी वस्तु से राग होने पर भी संबंध जुड़ता है। भगवान् श्रीराम वन में गये तो उनके साथ जिन ऋषि-मुनियों ने स्नेह किया, उनका उद्धार हो गया और जिन राक्षसों ने द्वेष किया, उनका भी उद्धार हो गया, पर जिन्होंने राग किया, न द्वेष किया, उनका उद्धार नहीं हुआ; क्योंकि उनका संबंध भगवान् के साथ नहीं जुड़ा इसी तरह संसार का असर मन में पड़े तो उसमें राग-द्वेष करके उसके साथ अपना संबंध मत जोड़ो। आप भगवान् के भजन-साधन में लगे रहो। संसार का असर हो जाये तो होता रहे, अपना उससे कोई मतलब नहीं-इस तरह उसकी उपेक्षा कर दो।

जैसे आप कुत्ते के मन के साथ अपना कोई संबंध नहीं मानते, ऐसे ही अपने मन के साथ भी अपना कोई संबंध मत मानो। कुत्ते का मन और आपका मन एक ही जाति के हैं। जब कुत्ते का मन आपका नहीं है तो यह मन भी आपका नहीं है। मन जड़ प्रकृति का कार्य है, आप चेतन परमात्मा के अंश हो। जैसे कुत्ते के मन में संसार का असर पड़ने से आप में कोई फर्क नहीं पड़ता, ऐसे ही इस मन का भी आप में कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिये।  


अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login