लोगों की राय

गीता प्रेस, गोरखपुर >> अच्छे बनो

अच्छे बनो

स्वामी रामसुखदास

1.95

प्रकाशक : गीताप्रेस गोरखपुर प्रकाशित वर्ष : 2006
आईएसबीएन : 81-293-0144-x पृष्ठ :75
मुखपृष्ठ : पुस्तक क्रमांक : 1069
 

प्रस्तुत है अच्छे बनो....

मनुष्यमात्र भगवत्प्राप्ति का अधिकारी है और वह प्रत्येक परिस्थिति में भगवान् को प्राप्त कर सकता है-यह इन प्रवचनों का सार विषय है।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login