मंगलमन्त्र णमोकार : एक अनुचिन्तन - नेमिचन्द्र शास्त्री Mangal-Mantra Namokar : Ek Anuchintan - Hindi book by - Nemichandra Shastri
लोगों की राय

जैन साहित्य >> मंगलमन्त्र णमोकार : एक अनुचिन्तन

मंगलमन्त्र णमोकार : एक अनुचिन्तन

नेमिचन्द्र शास्त्री

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2008
आईएसबीएन : 9788126316571 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :220 पुस्तक क्रमांक : 10532

Like this Hindi book 0

णमोकार महामन्त्र की गरिमा सर्वविदित है. इसके उच्चारण की भी महिमा है. साथ ही यह आराधना, साधना और अनुभूति का विषय है....

णमोकार महामन्त्र की गरिमा सर्वविदित है. इसके उच्चारण की भी महिमा है. साथ ही यह आराधना, साधना और अनुभूति का विषय है. श्रद्धा और निष्ठा होने पर यह आत्म-कल्याण और लौकिक अभ्युदय दोनों का मार्ग प्रशस्त करता है. यह कृति इस मंगल मन्त्र के कुछ ऐसी निगूढ़ पक्षों का उद्घाटन करती है जो इसे एक खोजपूर्ण और मौलिक कृति बना देते हैं. साथ में यह भी दरसाया गया है कि णमोकार मन्त्र ही समस्त द्वादशांग जिनवाणी का सार है, इसी महामन्त्र से समस्त मन्त्र शास्त्र कि उत्पति हुई है.

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login