फिर वही सवाल - दिनेश कर्नाटक Fir Wahi Sawaal - Hindi book by - Dinesh Karnatak
लोगों की राय

उपन्यास >> फिर वही सवाल

फिर वही सवाल

दिनेश कर्नाटक

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2011
आईएसबीएन : 9788126320714 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :206 पुस्तक क्रमांक : 10466

Like this Hindi book 0

वस्तुतः यह अपनी ज़मीन से बिछुड़ने को अभिशप्त एक नौजवान की कथा है.

युवा लेखक दिनेश कर्नाटक का यह पहला उपन्यास है. वस्तुतः यह अपनी ज़मीन से बिछुड़ने को अभिशप्त एक नौजवान की कथा है. अपनी और अपनों की ज़िन्दगी को बेहतर बनाने की जद्दोजहद में उलझे नौजवान के जगह-जगह जाने, जीवन को देखने, उससे जूझने की कथा है. जब वह गाँव में होता है तो उसे शहर में सम्भावनाएँ नज़र आती हैं, और जब वह शहर में होता है तो उसे गाँव पुकारने लगता है. दिनेश कर्नाटक ने पहाड़ की तलछटी में बसी तमाम त्रासदियों-विरूपताओं को इस उपन्यास में अनुपम कथा-कौशल के साथ उकेरा है.

To give your reviews on this book, Please Login