प्रसंगत: - अमृता भारती Prasangatah - Hindi book by - Amrita Bharati
लोगों की राय

लेख-निबंध >> प्रसंगत:

प्रसंगत:

अमृता भारती

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 1995
आईएसबीएन : मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :248 पुस्तक क्रमांक : 10447

Like this Hindi book 0

प्रसंगतः' में संगृहित सामग्री के विषय ऐसे तो हैं ही जिनसे अमृता भारती वर्षों से निरन्तर उलझती रही हैं. साथ ही ऐसे विषय-सन्दर्भ भी हैं…

प्रसंगतः' में संगृहित सामग्री के विषय ऐसे तो हैं ही जिनसे अमृता भारती वर्षों से निरन्तर उलझती रही हैं. साथ ही ऐसे विषय-सन्दर्भ भी हैं जिनकी चुनौतियों से किसी भी सजग और समर्थ समकालीन लेखक के लिए कतराना असम्भव है. इसमें साहित्य की विभिन्न विधाओं---निबन्ध, पत्र, व्यक्तिचित्र, एकालाप डायरी आदि के माध्यम से लेखक और लेखन की प्रकृति, परिवेश और उसकी स्थिति तथा सम्बन्धों का परिष्कृत और विलक्षण विवेचन-सम्प्रेषण है.

To give your reviews on this book, Please Login