पट्टमहादेवी शान्तला, चतुर्थ भाग - सी.के. नागराजराव Patta-Mahadevi Shantala, Part-Iv - Hindi book by - C.K. Nagaraja Rao
लोगों की राय

उपन्यास >> पट्टमहादेवी शान्तला, चतुर्थ भाग

पट्टमहादेवी शान्तला, चतुर्थ भाग

सी.के. नागराजराव

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2005
आईएसबीएन : 8126305223 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :464 पुस्तक क्रमांक : 10439

Like this Hindi book 0

भारतीय ज्ञानपीठ के 'मूर्तिदेवी पुरस्कार' से सम्मानित उपन्यास की नायिका 'शान्तला' भारतीय इतिहास की अनुपम और अद्भुत पात्र हैं.

भारतीय ज्ञानपीठ के 'मूर्तिदेवी पुरस्कार' से सम्मानित उपन्यास की नायिका 'शान्तला' भारतीय इतिहास की अनुपम और अद्भुत पात्र हैं. होयसल राजवंश के महाराज विष्णुवर्धन के पट्टरानी शान्तला को केंद्र में रखकर नागराज राव ने एक ऐसे विशाल उपन्यास की रचना की है जिसमें शताधिक ऐतिहासिक पात्र राजवंश की तीन पीढ़ीओं की कथा को देश और समाज के समूचे जीवन-परिवेश की पृष्ठभूमि में प्रतिबिम्बित करते हैं.

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login