मूकज्जी (मूक आजीमाँ) - के. शिवराम कारन्त Mookajjee - Hindi book by - K. Shivaram Karanth
लोगों की राय

उपन्यास >> मूकज्जी (मूक आजीमाँ)

मूकज्जी (मूक आजीमाँ)

के. शिवराम कारन्त

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :224
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10423
आईएसबीएन :8126313854

Like this Hindi book 0

मूकज्जी' अर्थात मूक आजीमाँ, एक ऐसी विधवा वृद्धा, जिसमें वेदना सहते-सहते, मानवीय विषमताओं को देखते-बूझते, प्रकृति के खुले प्रांगण में बरसों से पीपल तले उठते-बैठते, सब कुछ मन-ही-मन गुनते, एक ऐसी अद्भुत क्षमता जाग्रत हो गयी है कि

मूकज्जी' अर्थात मूक आजीमाँ, एक ऐसी विधवा वृद्धा, जिसमें वेदना सहते-सहते, मानवीय विषमताओं को देखते-बूझते, प्रकृति के खुले प्रांगण में बरसों से पीपल तले उठते-बैठते, सब कुछ मन-ही-मन गुनते, एक ऐसी अद्भुत क्षमता जाग्रत हो गयी है कि उसने प्रागैतिहासिक काल से लेकर वर्तमान काल तक की समस्त मानव-सभ्यता के विकास को आत्मसात कर लिया है. मूकज्जी की दृष्टि में जीवन जीने के लिए है.

लोगों की राय

No reviews for this book