तीन नाटक - सुरेन्द्र वर्मा Teen Natak - Hindi book by - Surendra Verma
लोगों की राय

नाटक-एकाँकी >> तीन नाटक

तीन नाटक

सुरेन्द्र वर्मा

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2005
आईएसबीएन : 8170556848 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :126 पुस्तक क्रमांक : 10420

Like this Hindi book 0

तीन नाटकों में प्राचीन स्मृतियाँ किसी न किसी स्तर पर सक्रिय हैं. कह सकते हैं कि …

तीन नाटकों में प्राचीन स्मृतियाँ किसी न किसी स्तर पर सक्रिय हैं. कह सकते हैं कि इनका आधार प्राचीन है लेकिन फलक इतना व्यापक है कि वह समकालीन व्यक्ति और उसके समूचे समाज को भी समेत लेता है.यहाँ लेखन के संस्कृत भाषा और साहित्य के गहरे अध्ययन का रचनात्मक इस्तेमाल भी देखने को मिलता है. लेखक ने अपने मंतव्य को पात्रों और घटनाओं के माध्यम से व्यक्त किया है.

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login