कन्धे पर बैठा था शाप - मीरा कांत Kandhe Par Baitha Tha Shap - Hindi book by - Mira Kant
लोगों की राय

नाटक-एकाँकी >> कन्धे पर बैठा था शाप

कन्धे पर बैठा था शाप

मीरा कांत

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2006
आईएसबीएन : 8126312602 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :164 पुस्तक क्रमांक : 10404

Like this Hindi book 0

मीरा कांत की यह कृति उन छूटे हुए, अव्यक्त पात्रों एवं स्थितियों की अभिव्यक्ति है जो या तो साहित्यिक मुख्यधारा का अंग न बन सकीं

मीरा कांत की यह कृति उन छूटे हुए, अव्यक्त पात्रों एवं स्थितियों की अभिव्यक्ति है जो या तो साहित्यिक मुख्यधारा का अंग न बन सकीं या फिर उसकी सरहद पर ही रहीं. इस नाट्य त्रयी का पहला नाटक जो कालिदास के अन्तिम दिनों, अन्तिम उच्चरित शब्दों, अन्तिम पद्य-रचना, उनके प्राय विस्मृत मित्र कवि कुमारदास और उस मित्र के प्रेम-प्रसंग के माध्यम से स्त्री-विमर्श का एक नया वातायन खोलता है. दूसरा नाटक कालिदास विरचित 'मेघदूतम' के कथा-तत्त्व के अन्तिम सिरे को कल्पना की पोरों से उठाकर एक भिन्न व सर्वथा नयी वीथि की ओर बढाने का सुन्दर प्रयास है. तीसरा नाटक, विस्थापन और डायस्पोरा के दर्द से बुने कश्मीर के समसामयिक यथार्थ को स्वर देता है.

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login