amar goswami/अमर गोस्वामी
लोगों की राय

लेखक:

अमर गोस्वामी
जन्म : 28 नवंबर, 1944 को मुलतान में एक बांग्लाभाषी परिवार में।

शिक्षा : स्नातकोत्तर (हिंदी साहित्य)।

दो महाविद्यालयों में अध्यापन। फिर पत्रकारिता में सक्रिय। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और प्रकाशन केंद्रों में संपादन सहयोग के बाद अब पूर्णतया लेखन।

कृतियाँ : कहानियाँ
  • हिमायती
  • महुए का पेड़
  • अरण्य में हम
  • उदास राघोदा
  • बूजो बहादुर
  • धरतीपुत्र
  • महाबली
  • इक्कीस कहानियाँ
  • अपनी-अपनी दुनिया
  • बल का मनोरथ
  • तोहफा तथा अन्य चर्चित कहानियाँ
उपन्यास:
  • इस दौर में हमसफर
  • शाबाश मुन्नू
इसके अतरिक्त बच्चों की बीस से ज्यादा पुस्तकें प्रकाशित। बँगला से हिंदी में अनुवाद की पचास से अधिक पुस्तकें। कुछ कहानियों का टी.वी. रूपांतरण भी।

सम्मान-पुरस्कार : रचना-कर्म के लिए केंद्रीय हिंदी निदेशालय नई दिल्ली, हिंदी अकादमी दिल्ली, उ.प्र. हिंदी संस्थान लखनऊ, शब्दों-सोवियत लिटरेरी क्लब तथा अन्य संस्थाओं द्वारा पुरस्कृत-सम्मानित।

इस दौर में हमसफर

अमर गोस्वामी

मूल्य: Rs. 350

अमर गोस्वामी का पहला उपन्यास ‘इस दौर में हमसफ़र’ उनकी लंबी और धीरज-भरी यात्रा का स्वाभाविक फल है   आगे...

कल का भरोसा

अमर गोस्वामी

मूल्य: Rs. 175

प्रस्तुत है श्रेष्ठ कहानी संग्रह...   आगे...

किस्सों का गुलदस्ता

अमर गोस्वामी

मूल्य: Rs. 275

प्रस्तुत हैं 51 बाल कहानियाँ...   आगे...

सुदामा की मुक्ति

अमर गोस्वामी

मूल्य: Rs. 7

छोटे गुरुजी रामभजन शहर के रहने वाले थे। शहर से गांव पांच मील दूर था। वे रोज साइकिल से पाठशाला आते थे। वे समय के पक्के थे। पाठशाला में आकर घंटी बजवा देते तब मंझले गुरुजी दीनानाथ अपने गांव से रवाना होते थे।   आगे...

 

  View All >>   4 पुस्तकें हैं|