Shriram Sharma/श्रीराम शर्मा
लोगों की राय

लेखक:

श्रीराम शर्मा
पं. श्रीराम शर्मा-एक परिचय

शर्माजी का जन्म सन् 1896 में उत्तर प्रदेश के जिला मैनपुरी (तहसील शिकोहाबाद) के अंतर्गत ग्राम किरथरा में हुआ। शर्माजी के पितामह बहुत बड़े जमींदार तथा धनवान व्यक्ति थे परंतु दुर्भाग्य से उनके पिता पं. रेवतीराम शर्मा का निधन अल्पायु में ही हो गया, श्रीरामजी उस समय चार-पांच वर्ष की आयु के ही थे। उन्हीं दिनों रिश्तेदारों तथा अन्य जमींदारों के कुचक्र से उनकी पैतृक संपत्ति जाती रही। 150 बीघा जमीन मात्र रह गई। शर्माजी की माताजी ने एक पेड़ के नीचे तिरपाल डालकर, खेत में रहकर अपने तीन बेटों के साथ संघर्षपूर्ण जीवन व्यतीत किया। स्वयं खेती की, और बेटों का पालन-पोषण किया। शर्माजी को आरंभिक शिक्षा उनके बड़े भाई से ही मिली, बड़े भाई के कठोर अनुशासन ने उन्हें भी अनुशासन-प्रिय बना दिया।

पं. श्रीराम शर्मा की पत्नी का नाम श्रीमती लक्ष्मी देवी था। अपने विवाह में शर्माजी ने घोर आदर्शवाद का निर्वाह किया था। उनके श्वसुर पं. हेतराम शर्मा आर्यसमाजी थे। विवाह में पांच व्यक्ति बारात में गए थे तथा दहेज में केवल एक नारियल, एक साड़ी तथा सवा रुपया स्वीकार किया गया था। शर्माजी की ग्यारह संतानों में से पांच जीवित हैं। उनकी सबसे बड़ी पुत्री कुमारी कमला शर्मा आगरा में एक कन्या विद्यालय की प्रधानाचार्या थीं। बड़े पुत्र रमेशकुमार शर्मा, कश्मीर विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग के आचार्य एवं अध्यक्ष थे। दूसरी बेटी, श्रीमती शारदा अग्निहोत्री हैं। उनके पति श्री ओमप्रकाश अग्निहोत्री आई० ए. एस०, रेलवे में वरिष्ठ अधिकारी थे। सबसे छोटी तथा उनके पति श्री सरोजकुमार अवस्थी आगरा कालिज में विधि विभाग में पढ़ाते हैं। छोटे पुत्र श्री उदयन शर्मा पत्रकार हैं।

पं. श्रीराम शर्मा ने खुर्जा में हाईस्कूल तक की शिक्षा प्राप्त की। हाईस्कूल पास करने के बाद शर्माजी ने आगरा कालिज में प्रवेश लिया। प्रति शनिवार वे पैदल तैतीस मील अपने गांव जाया करते थे और प्रति सोमवार आधी रात चलकर आगरा आ जाया करते थे। रेल किराए के साढ़े पांच आने बचाने के लिए वे यह करते थे। शरीर से वे अत्यंत शक्तिशाली थे, और मन से उतने ही निर्भय। गांव के जमींदारों के लटैतों के 15-20 लड़कों के साथ, आठ-दस वर्ष की आयु में रेल की पटरी के पत्थरों से मार-मारकर भगा दिया था। कुएं में काले सांप को मारा था। ये सारे कार्य उनके चरित्र तथा स्वभाव के द्योतक हैं। बी. ए॰ में पढ़ते समय उनका संपर्क पं. श्रीकृष्णदत्त पालीवाल, श्री बालकृष्ण शर्मा 'नवीन' तथा श्री गुलजारीलाल नंदा से हुआ। राष्ट्रीय आंदोलन तथा कांग्रेस के कार्यक्रमों में वे कृद पड़े। इसी बीच श्री गणेशशंकर विद्यार्थी के संपर्क में आए, जिन्हें वे जीवनभर राजनीति तथा पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना गुरु मानते रहे। बी. ए. पास करने के बाद शर्माजी ने एम. ए. (अर्थशास्त्र) तथा एलएल. बी० की कक्षाओं में प्रवेश लिया। उन्हीं दिनों श्री गणेशशंकर विद्यार्थी गिरफ्तार कर लिए गए। जेल से उनका संदेश प्राप्त करके शर्माजी ने पढ़ाई छोड़ दी और 'प्रताप' (कानपुर) का संपादन संभाल लिया। उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। संपूर्ण जीवन पत्रकारिता, लेखन तथा राजनीतिक कार्य में अर्पित कर दिया। शर्माजी का देहावसान 27 फरवरी सन् 1967 को आगरा में हुआ था।

राजनीतिक कार्य

श्री गणेशशंकर विद्यार्थी के प्रभाव से राजनीति में प्रवेश करने के बाद शर्माजी धीरे-धीरे महात्मा गांधी के अत्यंत निकट हो गए थे। 1942 से पूर्व के आठ-दस वर्षों तक वे प्रति वर्ष दो मास सेवाग्राम में गांधीजी के पास रहा करते थे। बापू का उन पर अटूट विश्वास था। आचार्य कृपलानी, श्री पुरुषोत्तमदास टंडन, पं. गोविंदवल्लभ पंत, डॉ. कैलासनाथ काटजू आदि नेताओं के साथ उनके घनिष्ठ संबंध थे। 1942 के 'भारत छोड़ो आंदोलन के समय शर्माजी को उत्तर प्रदेश (तत्कालीन संयुक्त प्रांत) तथा मध्य प्रदेश का प्रभारी नेता नियुक्त किया गया था। इसके पूर्व मैनपुरी षड्यंत्र केस में उनका सहयोग रहा था। विचारों तथा कर्मों से क्रांतिकारी शर्माजी 1942 के आगरा षड्यंत्र केस के प्रमुख अभियुक्त थे। केस का नाम था King Emperor v/s Sri Ram Sharma and others. इस मुकदमे में 14 अभियुक्त थे। शर्माजी के बड़े पुत्र रमेशकुमार शर्मा, उनकी बेटी कमला शर्मा के साथ उनके बड़े भाई पं. बालाप्रसाद शर्मा पकड़े गए थे। अंत में 1945 में सब लोग जेल से रिहा हुए। गिरफ्तारी और जेल-प्रवास के दौरान शर्माजी के तीन पुत्रों की मृत्यु हो गई और पुलिस की मारपीट के कारण उनका एक कान भी फट गया था। जेल से छूटने के बाद वे सीधे गांधीजी के पास गए थे। महात्मा गांधी की हत्या के बाद वे लेखन कार्य में ही अधिक रत रहे। जीवन के अंतिम 8-10 वर्षों में उन्होंने नेत्रहीन अवस्था में पांच पुस्तकें बोलकर लिखीं। ‘ग्लोकोमा' के कारण उनके दोनों नेत्रों की ज्योति जाती रही थी।

साहित्यिक कार्य

(अ) पत्रिकारिता-शर्माजी ने 'प्रताप' (कानपुर) के संपादन से पत्रकारिता में प्रवेश किया। अनेक बार वे 'फ्री लांस' पत्रकारिता भी करते रहे। देशी-विदेशी पत्रकारों से उनका संपर्क रहा। इस क्षेत्र में स्व. रामानंद चट्टोपाध्याय का प्रभाव भी उनके ऊपर पड़ा। 'योगी' (पटना), ‘सैनिक' (आगरा) आदि के प्रबंधन, संपादन तथा संचालन में योग देते रहे और 1938 से 1962 तक विशाल भारत' के संपादक रहे। श्री मोहनसिंह सैगर तथा 'अज्ञेय' जी उनके सह-संपादक थे। 'विशाल भारत' में उनके लिखे 1000 पृष्ठों के संपादकीय अपना विशेष राजनीतिक तथा साहित्यिक महत्त्व रखते हैं।

(ब) शिकार साहित्य-हिंदी में शिकार-साहित्य का आरंभ शर्माजी ने ही किया था। वे स्वयं बड़े पटु शिकारी थे। जिम कार्बेट से उनके बड़े अच्छे संबंध थे। अंडा-मांस शर्माजी छूते भी न थे-शुद्ध शाकाहारी थे, इस कारण हिंस्र पशुओं का ही शिकार करते थे। शिकार संबंधी उनके ग्रंथ हैं-शिकार, प्राणों का सौदा, जंगल के जीव तथा जिम काबेंट की पुस्तकों (रुद्रप्रयाग का आदमखोर आदि) के अनुवाद। हिंदी के लेखक होते हुए भी शर्माजी प्राणी-विज्ञान के विशेषज्ञ थे। वनस्पति एवं जीव विज्ञान (बॉटनी तथा जूलोजी) के साथ-साथ कृषि-विज्ञान के माहिर भी थे। ‘भारत के जंगली जीव', 'भारत के पक्षी', 'हमारी गायें' तथा 'पपीता' आदि उनकी इस विषय की पुस्तकें हैं, जिनमें से बहुत-सी भारत सरकार के प्रकाशन विभाग ने प्रकाशित की हैं।

(स) रेखाचित्र-संस्मरण (रिपोर्ताज)-शर्माजी हिंदी-साहित्य में इन विधाओं के जन्मदाता माने जाते हैं। इस क्षेत्र में उनके प्रसिद्ध ग्रंथ हैं - बोलती प्रतिमा, वे जीते कैसे हैं, संघर्ष और समीक्षा, झांसी की रानी लक्ष्मी बाई सेवाग्राम डायरी, संस्मरण सीकर तथा नयना सितमगर (अप्रकाशित)। हिंदी, अंग्रेजी, बंगला, उर्दू तथा फारसी के विद्वान् होने के कारण शर्माजी की भाषा-शैली एक विशेष प्रकार की प्रभविष्णुता से युक्त है। उनके जीवन पर अन्य व्यक्तियों के अतिरिक्त गुरुदेव रवींद्रनाथ ठाकुर, संपादकाचार्य पं. पद्मसिंह शर्मा तथा दीनबंधु एंडूज का प्रचुर प्रभाव पड़ा था। अनेक वर्ष तक उनकी वार्षिक गतिविधि यह रही थी कि वे दो मास गांधीजी के पास रहते थे, दो मास शांतिनिकेतन में रहते थे, दो मास शिकार खेलते और शेष समय लेखन तथा राजनीतिक कार्यों में व्यतीत करते थे। 1935 की कांग्रेसी सरकार बनने पर वे उत्तर प्रदेश की सरकार में भी कुछ दिन रहे थे। शर्माजी के व्यक्तित्व में विरोधों का विचित्र सम्मिश्रण था। शिकार खेलते थे, मांस अंडा नहीं खाते थे। जहां भी जाते थे साथ में रायफल, सितार तथा कैमरा साथ होता था। लखनऊ के उस्ताद हामिद हुसैन से उन्होने सितार सीखा था। गांधीजी, आचार्य महावीरप्रसाद द्विवेदी, गुरुदेव रवींद्रनाथ ठाकुर तथा दीनबंधु एंडूज के हजारों फोटो उन्होंने खींचे थे।

पं. पद्मसिंह शर्मा कहा करते थे कि शर्माजी की-सी भाषा हिंदी के बहुत कम लेखक लिख सके हैं। उनका कथन था कि "शर्माजी की राइफूल का निशाना जितना अचूक है, उतना ही उनकी भाषा का भी है। वह सीधे पाठक के हृदय में प्रवेश कर जाती है।” एक विशेष बात शर्माजी की शैली की है, उनके उद्धरणों का प्रयोग। विशेषकर उर्दू के शेरों का प्रयोग। लगभग प्रत्येक लेख, निबंध इत्यादि में उर्दू के शेरों के उद्धरण दिए हैं, विशेषकर अंत में। पौरुष, क्रांति, सादगी, ग्रामीण-जीवन के प्रति प्रेम, गांधीवाद, रूढ़ि-विरोध तथा पूर्ण निर्भयता शर्माजी की विशेषताएं थीं। सत्यवादिता तथा कट्टर ईमानदारी उनके सिद्धांत थे। शिकार खेलते समय एक दिन में साठ मील चलना उनके लिए सहज बात थी। गढ़वाल के पर्वतीय प्रदेश में जिन दिनों वे टिहरी के हाईस्कूल के हैडमास्टर थे, उन्होंने सर्वाधिक शिकार खेला, विशेषकर शेर का। उन दिनों राइफल सहित 10-12 किलो वजन लादकर पहाड़ पर 55-60 मील दिन में चलना उनकी आदत थी। चारित्रिक, शारीरिक, राजनीतिक, साहित्यिक प्रत्येक प्रकार की दुर्बलता से उनको घृणा थी। इसके साथ साथ वे परम भावुक तथा परदुखकातर थे।

सर्वधर्म-समभाव तथा सामाजिक समत्व में उनका पूर्ण विश्वास था। 'बोलती प्रतिमा के रेखाचित्रों में मजदूर एवं दलितवर्ग के उनके चित्र इसके प्रमाण हैं। हिंदीसाहित्य में इतने भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में गतिवान रहने वाला व्यक्तित्व संभवतः अन्य दूसरा नहीं है।

निवेदन

हिंदी में शिकार-साहित्य लिखने वाले अनेक ऐसे लेखक आज पाए जाते हैं, जो पुस्तक-ज्ञान के आधार पर (कभी-कभी उसके बिना भी) कपोल-कल्पित शिकार-विषयक कहानियां लिख डालते हैं। मेरे स्वर्गीय पिताश्री पं. श्रीराम शर्मा ने शिकार-विषयक सच्ची कहानियां ही लिखी थीं वास्तव में उन्हें कहानियां न कहकर रोचक शैली में लिखे शिकारविषयक संस्मरण कहना अधिक उपयुक्त है, चाहे वे उनके अपने शिकारीअनुभव हो या अन्य संसार-प्रसिद्ध शिकारियों के संस्मरण हो।

शर्माजी केवल शिकार ही नहीं खेलते थे अपितु जीव-विज्ञान, वनस्पति-विज्ञान तथा पशु-मनोविज्ञान के ज्ञाता भी थे। उनके शिकारसाहित्य को पुनः पाठकों के समक्ष लाने में मुझे हर्ष का अनुभव हो रहा है। देश के लगभग प्रत्येक प्रदेश से उनके साहित्य को पुनः प्रकाशित करने की सतत मांगें आ रही थीं। दुर्भाग्य से पिछले पांच-दस वर्षों में मेरे प्रमाद के कारण शर्माजी के साहित्य का पुनः प्रकाशन मैं नहीं कर सका था। शर्माजी के संपूर्ण साहित्य को पुनः मुद्रित करने के लिए आग्रह करके, मेरे प्रमाद को दूर करने के लिए, मैं श्री सुखपाल गुप्त (आर्य बुक डिपो, करोल बाग, नई दिल्ली) का आभारी हूं।

आशा है पाठकों को शर्माजी के साहित्य के पुनः प्रकाशन द्वारा संतोष देने में मैं समर्थ हुआ हूं।

रमेश कुमार शर्मा पूर्व आचार्य तथा अध्यक्ष, हिंदी विभाग, कश्मीर विश्वविद्यालय, श्रीनगर (कश्मीर)

परिचय

‘प्राणों का सौदा' लेखक के तेरह लेखों का संग्रह है। इनमें से कई लेख प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में भी प्रकाशित हो चुके हैं। इस संग्रह के दो लेख-अपमानजनक मृत्यु' और 'रुद्रप्रयाग का आदमखोर किसी पुस्तक के आधार पर नहीं हैं। शेष लेख चैडविक की Hunters and the Hunted, मेजर फोरन की Kill or be Killed, लेफ्टिनेंट सरले की Dwellers in the Jungle, नोलैज़ की The Terrors of the Jungle and in the Grip of the Jungle पुस्तकों में वर्णत लेखों और ‘वाइल्ड वर्ल्ड’ अंग्रेजी पत्रिका में छपे दो लेखों के आधार पर हैं। लेखक पुस्तकों और पत्रिका के लेखकों तथा प्रकाशकों का बड़ा ही कृतज्ञ है।

परिचय लिखते समय मुझे स्व. ब्रजमोहन वर्मा की याद आ रही है। अब से सात वर्ष पूर्व, 'शिकार की भूमिका लिखने के बाद पंडित बनारसीदास चतुर्वेदी और स्व. वर्माजी के साथ मैं चाय पी रहा था। अपने शिकार संबंधी संस्मरणों को छापने के लिए नाम की आवश्यकता थी। पं. पद्मसिंह शर्माजी से मैंने पूछा कि कोई उपयुक्त नाम बताइए, पर कोई आकर्षक नाम न सूझा। अंत में सबको मेरे प्रस्तावित नाम शिकार को मानना पड़ा-यद्यपि मैं स्वयं उस नाम से न तब संतुष्ट था और न अब। अस्तु, शिकार' नामकरण हो जाने के बाद और मशीन पर फर्मा चढ़ जाने के बाद अन्य पुस्तकों का जिक्र हुआ और स्व. वर्माजी एक नाम पेश किया, शिकार संबंधी मेरी दूसरी किताब के लिए, और वह नाम था 'प्राणों का सौदा'। अफसोस है, ‘प्राणों का सौदा' का नामकरण करने वाले व्यक्ति अपने बीच में नहीं हैं। अगर साहित्यशिखर पर वेग से बढ़ने वाला वह व्यक्ति-वर्माजी-आज होता, तो यह पुस्तक उसकी देख-रेख में छपती। पर विधि की गति वक्र है। उपर्युक्त शब्द लिखने से, आशा है, वर्माजी की आत्मा, उनके छोटे भाई राजन बाबू । उनके मित्रों और विशाल भारत' परिवार को लेखक की भांति कुछ सांत्वना मिलेगी। शिकार संबंधी लेख लिखने में मुझे विशाल भारत के पाठक और अन्य हिंदी-साहित्य-सेवियों से जो प्रोत्साहन मिला, वह शब्दों में अंकित नहीं किया जा सकता। इस पुस्तक के लिखने का श्रेय पाठकों की अभिरुचि मित्रों के प्रोत्साहन और हिंदी साहित्य के गौरव को मिलना चाहिए। यों लेखक की भी प्रशंसा हुई है, उसी तरह, जिस तरह गेहूँ के साथ बथुआ को भी पानी लग जाता है।

श्रीराम शर्मा

भूमिका

किसी भी साहित्य-सेवी को-विशेषकर वर्तमान परिस्थिति में, हिंदी साहित्य-सेवी को इससे अधिक और क्या आत्मतोष होगा कि उसे साहित्य के किसी अंग विशेष का जन्मदाता माना जाए। हिंदी में शिकार-मेरे विचार से प्रकृति संबंधी साहित्य के पितृत्व के गौरव का ख्याल करके लेखक कभी-कभी यह सोचने लगता है कि यह सब उसके पूर्वजन्म के किसी पुण्य का फल है, वर्ना हिंदी के विशाल क्षेत्र में किसी अन्य योग्यतम लेखक के माथे पर यह सेहरा बंधता। पर इस प्रशंसा प्राप्ति से पाठक विश्वास करें, लेखक का माथा नहीं फिरा, वरन् उससे तो उसमें नम्रता और संकोचशीलता की मात्रा बढ़ गई है। हाँ, एक बात का दुःख उसे जरूर है और वह यह कि गत पंद्रह वर्षों में उसका कोई साथी-शिष्य नहीं-हिंदी साहित्य में उस विषय पर नहीं दिखाई दिया। कई मित्रों ने प्रयास किया पर उनके लेखों में लेखन-कला की मौलिकता न आ पाई। और शायद वे थककर अथवा हतोत्साह होकर बैठ गए। मुख्य कारण यह था कि वे स्वयं प्रकृति के संपर्क में न आए थे। उन्होंने प्रकृति देवी को, आप चाहें तो उसे प्रकृति-परी कहें-उन आंखों से नहीं देखा, जिनसे उन्हें देखना चाहिए था। प्राकृतिक दृश्यों के चित्रण के लिए राइफूल और बंदूक की जरूरत नहीं है, जरूरत है सूक्ष्म कल्पना शक्ति, कोमल भावना, निरीक्षण बुद्धि और अनुभूति की।

लेखक के शिकार अथवा प्राकृतिक-चित्रण संबंधी लेखों का इतना मान शायद इसलिए हुआ है कि उनका साहित्यिक महत्त्व है, यद्यपि संकोचवश उसे यह लिखना पड़ता है कि उसके गत 20-21 वर्ष के साहित्यिक जीवन में शिकार-साहित्य का बहुत कम भाग है। पर किसी चीज के अभाव में जब कोई चीज आती है, तब उस पर सबकी आंखें लग ही जाती हैं। हां लेखक ने शिकार को साहित्यिक और दार्शनिक जामा पहना दिया है। कोई भी चीज जब तक कलापूर्ण नहीं होती, तब तक उसका विशेष महत्त्व नहीं होता। बढ़िया से बढ़िया सागौन की लकड़ी पड़ी हो, पर जब तक कुशल बढ़ई उससे कोई बढ़िया कुर्सी या मेज या कलमदान नहीं बनाता, तब तक उसका कोई विशेष महत्त्व नहीं होता-आकर्षण का तो कोई सवाल ही नहीं उठता। बस लेखक ने शिकारजीवन की घटनाओं को साहित्यिक समाज की चीज बनाने की कोशिश की है। पाठक पूछ सकते हैं कि शिकार' और 'प्राणों का सौदा' में क्या अंतर है? क्या 'प्राणों का सौदा' मौलिक रचना है? क्या उसका कोई साहित्यिक महत्त्व है? "शिकार' आपबीती घटनाओं का चित्रण है और प्राणों का सौदा' कलाविद और मशहूर शिकारियों पर बीती घटनाओं अथवा दुर्घटनाओं का चित्रण है। अंग्रेजी में छपे उन लेखों को आप पढ़ें तो आपको मालूम होगा कि मूल घटनाओं में तनिक भी अंतर-घटावबढ़ाव नहीं है। ढांचा वही है रतीभर का फर्क नहीं; पर लेखन-शैली और दार्शनिक तथा साहित्यिक विश्लेषण ने संग्रह को एक नवीनतर चीज बना दिया है। चिंता, भय, सुख और दुःख संबंधी मनोविकारों को अंकित करने से कथा में जान पड़ जाती है। यदि ऐसा न हो, यदि मनोविकार-चित्रण की आवश्यकता न हो, तो विश्व के लिए साहित्य भी फजूल है। रामायण की घटना ही कितनी है, पर काव्य का रूप देने से उसका जो महत्त्व हुआ है, उसे हम खूब समझते हैं।

प्राणों का सौदा' का साहित्यिक महत्त्व क्या है-इसका उत्तर साहित्य-सेवी ही दें। मैं इस विषय में कुछ न लिखूगा।

हिंदी साहित्य के नाते, लगे हाथ, एक बात और लिख दूँ। हिंदी शिकार साहित्य अभी सागर की एक बूंद के बराबर भी नहीं और शिकार-साहित्य जीव-जंतुओं के रहन-सहन संबंधी ज्ञान के बिना अधूरा ही समझना चाहिए। अंग्रेजी में तो हाथी, शेर और अन्य जानवरों पर बढ़िया पुस्तकें हैं; पर हिंदी वालों में भी धनी-मानी हैं और वे शेर माने के रैकर्ड तोड़ने पर तुले हुए हैं पर उनसे यह न होगा कि अपने अनुभवों को लिखकर या लिखाकर उन्हें पुस्तक का रूप दें दें। शेर, चीतल, बघेरा, सूअर और हाथी पर इतनी सुंदर पुस्तकें लिखी जा सकती हैं कि लेखक हिंदी साहित्य में अमरता प्राप्त कर सकता है। जंगली जानवरों को मारकर रैकार्ड-कोरे रैकार्ड तोड़ने की बात में तो बधिकता की बू है।

अनेक हिंदी-साहित्य सेवी इंग्लैंड गये हैं पर इन पंक्तियों के लेखक ने हिंदी में 'झील-प्रदेशों' (Lake district) का वर्णन नहीं पढ़ा। तात्पर्य यह है कि हम में अभी प्रकृति-दर्शन और प्रकृति का मूल्य आंकने की बहुत कमी है और इसी कमी के कारण, किन्हीं अंशों में, ऐसे साहित्य का निर्माण नहीं हो रहा। परंतु आशा है, हमारे नवयुवक लेखक और कवि इस ओर ध्यान देंगे और साहित्य की त्रुटि-पूर्ति और अपनी ख्याति की वृद्धि करेंगे।

प्राणों का सौदा

श्रीराम शर्मा

मूल्य: $ 4.95

तेरह लेखों का संग्रह....   आगे...

 

  View All >>   1 पुस्तकें हैं|