Krishan Baldev Vaid/कृष्ण बलदेव वैद
लोगों की राय

लेखक:

कृष्ण बलदेव वैद
जन्म : 27 जुलाई, 1927, दिंगा (पंजाब)।

शिक्षा : एम.ए. (अंग्रेज़ी), पंजाब विश्वविद्यालय (1949), पी-एच.डी, हार्वर्ड विश्वविद्यालय (1961)।

अध्यापन : हंसराज कॉलिज, दिल्ली विश्वविद्यालय (1950-62); अंग्रेज़ी विभाग, पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ (1962-66); अंग्रेजी विभाग, न्यूयार्क स्टेट विश्वविद्यालय (1966-85); अंग्रेज़ी विभाग, ब्रेंडाइज़ विश्वविद्यालय (1968-69)।

अन्य अनुभव : अध्यक्ष, निराला सृजन पीठ, भारत भवन, भोपाल (1985-88)।

कृतियाँ :

उपन्यास : उसका बचपन, बिमल उर्फ़ जायें तो जायें कहां, तसरीन, दूसरा न कोई, दर्द ला दवा, गुज़रा हुआ ज़माना, काला कोलाज, नर नारी, माया लोक, एक नौकरानी की डायरी।

कहानी-संग्रह : बीच का दरवाज़ा, मेरा दुश्मन, दूसरे किनारे से, लापता, उसके बयान, मेरी प्रिय कहानियां, वह और मैं, ख़ामोशी, अलाप, प्रतिनिधि कहानियां, लीला, चर्तित कहानियां, पिता की परछाइयां, दस प्रतिनिधि कहानियां, बोधिसत्त्व की बीवी : (बोधिसत्त्व की बीवी, उदयन की बीवियों के अंदेशे, अरुणांचल, सारनाथ, ब्रांक्यूसी का हमाम, मोची भिखारिन मैं, डर मंदिर ईश्वर, पीलू और फ़रिश्ता, मशीन, लेखक और लंबा आदमी, लेखक की बद्दुआएं, कैसे गुज़र रही है ओल्ड ऐज, कुआं, ऊपर, साहित्य की नैतिकता, पिछले जन्म की बात है।), बदचलन बीवियों का द्वीप : (कलिंगसेना और सोमप्रभा की विचित्र मित्रता, सोमप्रभा की सुनाई हुई दो विचित्र कहानियों से छेड़छाड़, अर्थलोभ से मानपरा की मुक्ति, ‘लोहजंघ की कहानी, मथुरानिवासिनी गणिका रूपणिका की ज़ुबानी’, ‘देवदत्त की बीवी की कहानी, पिंगलिका ब्राह्मणी की ज़ुबानी’, उदयन की बीवियों के अन्देशे, बेधिसत्व की बीवी, एक और बोधिसत्व, मैं निश्चयदत्त और मेरी अनुरागपरा, ‘बदचलन’ बीवियों का द्वीप।), संपूर्ण कहानियां (दो जिल्दों में) : मेरा दुश्मन, रात की सैर।

नाटक : भूख आग है, हमारी बुढ़िया, कीजिए हाय हाय क्यों, सवाल और स्वप्न, परिवार अखाड़ा।

समीक्षा : टेकनीक इन दि टेल्ज़ ऑफ़ हेनरी जेम्ज़।

अनुवाद : अंग्रेज़ी में—स्टेप्स इन डार्कनेस (उसका बचपन), बिमल इन बाग (बिमल उर्फ़ जायें तो जायें कहां), डाइंग अलोन (दूसरा न कोई और दस कहानियां), द ब्रोकन मिरर (गुज़रा हुआ ज़माना), सायलेंस (चुनी हुई कहानियां।

हिंदी में—गॉडो के इंतजार में (बेकिट), आख़िरी खेल (बेकिट), फ़ेड्रा (रासीन), एलिस अजूबों की दुनिया में (लुइस केरल)।

अन्य : शिकस्त की आवाज़ (आत्मकथा), ख्वाब है दीवाने का (डायरी)।

उसका बचपन

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 2.95

चारपाई की गहराई में दादी औंधे मुंह पड़ी हुई है, जैसे कोई बच्चा रोते रोते सो या मर गया हो। ड्योढ़ी इस मकान का मुँह है, जो कभी खुलता है तो कभी बंद हो जाता है।   आगे...

उसके बयान

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 7.95

  आगे...

एक नौकरानी की डायरी

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 14.95

एक नौकरानी की डायरी...

  आगे...

ख्वाब है दीवाने का

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 15.95

कृष्ण बलदेव वैद की उत्कृष्ट प्रवास डायरी...   आगे...

जब आँख खुल गई

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 16.95

  आगे...

नर नारी

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 13.95

प्रस्तुत है नर नारी....   आगे...

परिवार अखाड़ा

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 7.95

  आगे...

बदचलन बीवियों का द्वीप

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 9.95

प्रस्तुत है श्रेष्ठ कथासरित्सागर की कुछ संस्कृत कहानियों का संग्रह....   आगे...

बोधिसत्व की बीवी

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 7.95

‘वैद की कथा’ मन की तीव्र गति को कुछ वस्तुवर्णनात्मक संदर्भों या दृश्यों से जोड़ती कथा है।   आगे...

भूख आग है

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: $ 9.95

  आगे...

 

 1 2 >   View All >>   13 पुस्तकें हैं|