Hullad Muradabadi/हुल्लड़ मुरादाबादी
लोगों की राय

लेखक:

हुल्लड़ मुरादाबादी
जन्म : 29 मई 1942।

जन्म-स्थान : गुजरानवाला (पाकिस्तान)।

नाम : सुशील कुमार चड्डा।

शिक्षा : बी.एस-सी., एम.ए.।

उपनाम : हुल्लड़ मुरादाबादी तथा गंभीर लेखन में ‘सब्र’। सन् 1962 से हिन्दी काव्य मंच पर।

कवि सम्मेलनीय विदेश यात्राएँ : अमेरिका तीन बार -1994, 1996 तथा 1997 में, हांगकांग दो बार तथा बैंकाक, कनाडा तथा आस्ट्रेलिया व 1998 में लन्दन, मैनचेस्टर तथा बर्मंघम।

अभिनय : फिल्म ‘बंधन बाँहों का’ (राजकिरण, स्वप्ना) ‘संतोष’ तथा आई.एस. जौहर कृत फिल्म ‘नसबंदी’ में टाइटिल सांग।

पुरस्कार : काका हाथरसी पुरस्कार, कलाश्री, ठिठोली, टी.ओ.वाई.पी. पुरस्कार, महाकवि निराला सम्मान, 1997 तथा 1998 में माध्यम संस्थान, लखनऊ द्वारा इक्कीस हजार का ‘अट्ठहास शिखर सम्मान’।

कृतियाँ : हुल्लड़ का हुल्लड़, तथाकथित भगवानों के नाम (पुरस्कृत), सत्य की साधना, हज्जाम की हज्जामत, त्रिवेणी, इतनी ऊँची मत छोड़ो (गज़ल संकलन), ये अन्दर की बात है, दुमदार और दमदार दोहे, क्या करेगी चाँदनी, अच्छा है पर कभी-कभी, मैं भी सोचूँ तू भी सोच, हुल्लड़ सतसई, जिगर से बीड़ी जला ले, हुल्लड़ हज़ारा।

क्या करेगी चाँदनी

हुल्लड़ मुरादाबादी

मूल्य: $ 7.95

सीधे शब्दों में तथा व्यंग्यात्मक लहजे में बड़ी बात कह देना मजाक नहीं है किंतु हुल्लड़ जी के लिए बहुत ही सहज है ये कला। भाषा ऐसी है कि हिन्दी उर्दू में भेदभाव नहीं। भाव ऐसा है कि हृदय को छू जाए।   आगे...

जिगर से बीड़ी जला ले

हुल्लड़ मुरादाबादी

मूल्य: $ 7.95

हुल्लड़ मुरादाबादी का व्यंग्य गजल संग्रह...

  आगे...

दमदार और दुमदार दोहे

हुल्लड़ मुरादाबादी

मूल्य: $ 8.95

हास्य कविताएं जो अपनी फलश्रुति में पाठक या श्रोता को एक ऐसे आत्मसत्य के सन्मुख खड़ा कर देती हैं, जहां वह समस्या पर गंभीर चिंतन के लिए विवश हो जाता है।...   आगे...

मैं भी सोचूँ तू भी सोच

हुल्लड़ मुरादाबादी

मूल्य: $ 9.95

हास्य-व्यंग्य से पूर्ण हुल्लड़ मुरादाबादी की रचनायें...   आगे...

यह अन्दर की बात है

हुल्लड़ मुरादाबादी

मूल्य: $ 11.95

हास्य व्यंग्य कविताओं का संकलन।

  आगे...

हुल्लड़ सतसई

हुल्लड़ मुरादाबादी

मूल्य: $ 10.95

हुल्लड़ मुरादाबादी के द्वारा व्यंग्यपूर्ण एवं प्रेरणाश्रोत रचनाएँ   आगे...

हुल्लड़ हज़ारा

हुल्लड़ मुरादाबादी

मूल्य: $ 12.95

हुल्लड़ जी के एक हजार से भी अधिक दोहों का पहला संकलन...   आगे...

 

  View All >>   7 पुस्तकें हैं|