Alhad Bikaneri/अल्हड़ बीकानेरी
लोगों की राय

लेखक:

अल्हड़ बीकानेरी
मूल नाम : श्याम लाल शर्मा।
जन्म :17 मई, 1937 को गाँव-बीकानेर, जिला-रेवाड़ी, हरियाणा में।
शब्द-यात्रा :1962 में गीत-गजल लेखन में पदार्पण।1967 में हास्य-व्यंग्य कविताओं का देश-विदेश में सस्वर काव्य-पाठ। आकाशवाणी तथा दूरदर्शन से प्रसारित। लगभग सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित।

कृतियाँ :
  • भज प्यारे तू सीताराम
  • घाट-घाट घूमे
  • अभी हँसता हूँ
  • अब तो आँसू पोंछ
  • भैंसा पीवे सोमरस
  • ठाठ गजल के
  • रेत पर जहाज
  • अनछुए हाथ
  • खोल न देना द्वार
  • जय ‘मैडम’ की बोल रे
हरियाणवी फीचर फिल्म (रंगीन) ‘छोटी साली’ के गीत-कहानी का लेखन तथा निर्माण कार्य।

पुरस्कार-सम्मान :
  • ठिठोली पुरस्कार
  • काका हाथरसी पुरस्कार
  • टेपा पुरस्कार
  • मानस पुरस्कार
  • व्यंग्यश्री पुरस्कार
  • यथासंभव
  • काव्य गौरव
  • काका हाथरसी सम्मान
  • नरेंद्र मोहन सम्मान
  • हरियाणा गौरव सम्मान
  • अट्टहास शिखर सम्मान
इसके अलावा लायंस क्लब, दिल्ली, अखिल भारतीय नागरिक परिषद् तथा राष्‍ट्रपति द्वारा अभिनंदन।

विदेश-यात्रा : थाईलैंड, सिंगापुर, मस्कट, दुबई।

मन मस्त हुआ

अल्हड़ बीकानेरी

मूल्य: Rs. 95

‘मन मस्त हुआ’ की कविताएँ पढ़ते समय आपको महसूस होगा कि आपने इस दौर के सर्वश्रेष्ठ हास्य-कवि की रचनाओं से साक्षात्कार किया है...   आगे...

 

  View All >>   1 पुस्तकें हैं|