400 Kalayan Path - A Hindi Book by - Swami Ramsukhadas - कल्याण पथ - स्वामी रामसुखदास
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
400 Kalayan Path

कल्याण पथ

<<खरीदें
स्वामी रामसुखदास<<आपका कार्ट
मूल्य$ 2.95  
प्रकाशकगीताप्रेस गोरखपुर
आईएसबीएन81-293-0775-8
प्रकाशितजनवरी २८, २००६
पुस्तक क्रं:982
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Kalyan Path -A Hindi Book by Swami Ramsukhdas - कल्याण पथ - स्वामी रामसुखदास

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

नम्र निवेदन

परमार्थ-पथ के पथिकों की सेवा में यह पाथेय-तुल्य पुस्तक प्रस्तुत की जा रही है। इससे पहले भी परमश्रद्धेय स्वामीजी श्रीरामसुखदासजी महाराज की कई पुस्तकें गीताप्रेस से प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनसे भगवत्प्रेमी भाई-बहनों ने बहुत लाभ उठाया है एवं उठा रहे हैं।

गीताप्रेस से निकलनेवाले लोकप्रिय मासिक पत्र ‘कल्याण’ के विशेषांकों में समय-समय पर परमश्रद्धेय श्रीस्वामीजी महाराज के लेख प्रकाशित होते रहते हैं। प्रस्तुत पुस्तक में प्रायः उन्हीं लेखों का संग्रह यथावश्यक संशोधन-संवर्धन के साथ प्रकाशित किया जा रहा है। कल्याणकामी भाई-बहनों से विनम्र निवेदन है कि वे विविध विषयों से समन्वित इस पुस्तक के अध्ययन-मनन से लाभ उठायें। प्रथम संस्करण में यही पुस्तक कल्याणकारी उपदेश के नाम से प्रकाशित की गयी थी। द्वितीय संस्करण से इसका नाम परिवर्तित कर कल्याण-पथ कर दिया गया है।

-प्रकाशक
मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


रानी लक्ष्मीबाई
    वृंदावनलाल वर्मा

संगम, प्रेम की भेंट
    वृंदावनलाल वर्मा

मृगनयनी
    वृंदावनलाल वर्मा

माधवजी सिंधिया
    वृंदावनलाल वर्मा

अहिल्याबाई, उदयकिरण
    वृंदावनलाल वर्मा

मुसाहिबजू, रामगढ़ की कहानी
    वृंदावनलाल वर्मा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :