Tales of Giants And Demons - A Hindi Book by - Anant Pai - टेल्स ऑफ जाइण्ट्स एण्ड डीमन्स - अनन्त पई
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
Tales of Giants And Demons

टेल्स ऑफ जाइण्ट्स एण्ड डीमन्स

<<खरीदें
अनन्त पई<<आपका कार्ट
मूल्य$ 15.95  
प्रकाशकइंडिया बुक हाउस लिमिटेड
आईएसबीएन81-8482-383-5
प्रकाशितअप्रैल ०१, २०१०
पुस्तक क्रं:7762
मुखपृष्ठ:सजिल्द

सारांश:
Tales of Giants And Demons - by Anant Pai

They break rules. They create chaos. They are different. But not all the giants and demons on Indian mythology can be called evil.

Ravana, the king of Lanka, is proud, lustful and ruthless. Yet, he is an intellectual, an accomplished dancer and one of Shive’s greatest devotees.

Mahiravanam, son of Ravana and king of the netherworld, is a magician who manages to dupe the ever vigilant Hanuman and kidnap Rama and Lakshmana.

Kumbhakarna, the sleeping giant, rallies to his brothers Ravana’s supports and sacrifices his life.
And Ghatotkacha, son of the demoness Hidimba, is an obedient and dutiful son to his father, Bheema, the Pandavs prince.
मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


रानी लक्ष्मीबाई
    वृंदावनलाल वर्मा

संगम, प्रेम की भेंट
    वृंदावनलाल वर्मा

मृगनयनी
    वृंदावनलाल वर्मा

माधवजी सिंधिया
    वृंदावनलाल वर्मा

अहिल्याबाई, उदयकिरण
    वृंदावनलाल वर्मा

मुसाहिबजू, रामगढ़ की कहानी
    वृंदावनलाल वर्मा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :