Aise Badali Nak Ki Nath - A Hindi Book by - Manohar Chamoli - ऐसे बदली नाक की नथ - मनोहर चमोली
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
Aise Badali Nak Ki Nath

ऐसे बदली नाक की नथ

<<खरीदें
मनोहर चमोली<<आपका कार्ट
मूल्य$ 1.95  
प्रकाशकनेशनल बुक ट्रस्ट,इंडिया
आईएसबीएन81-237-4408-0
प्रकाशितजून ०१, २००६
पुस्तक क्रं:6167
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Aise Badali Nak Ki Nath -A Hindi Book by Manohar Chamoli - ऐसे बदली नाक की नथ - मनोहर चमोली

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

लंबे-लंबे देवदार के पेड़ों से घिरा एक गांव ! नाम है पलाम। यह गांव शोर-शराबे से दूर है। आज गांव में खूब चहल-पहल है। मोहन की शादी जो हुई है। बराती नवाकोट से नई बहू लेकर अभी-अभी पहुंचे हैं। मुँह दिखाई की रस्म चल रही है।
बराती नवाकोट की चर्चा कर रहे हैं। कोई कहता- ‘‘बहुत बड़ा गांव हैं।’’ पढ़े-लिखे और इज्जतदार। नवाकोट के लोग खूब ठाट से रहते हैं। ’’

मोहन के घर में महिलाएं इकट्ठा हैं। खलिहान में जमघट लगा है। गांव की बहू-बेटियां सुबह से उतावली हो रही हैं। नई बहू को बार-बार देखने का मोह नहीं छूट रहा है। उनकी बातें हैं कि खत्म ही नहीं हो रही ।
‘‘पलाम में राधा से सुंदर कोई बहू नहीं।’’ लक्ष्मी ने कहा।
‘‘तुमने ठीक कहा। राधा पढ़ी-लिखी है सलीके से बात करती है।’’ पूनम ने कहा।
‘‘मोहन भाई के तो भाग जग गये। वो भी बहुत खुश हैं।’’रचना हँस दी।

‘‘ऐ। छोकरियों। चुप करो। ये तो बाद में पता चलेगा। शुरू में सारी अच्छी दिखाई पड़ती है। असली रूप तो बाद में ही सामने आता है।’’ कमली की मां ने लड़कियों को धमकाते हुए कहा।
लड़कियां भी कम नहीं थी। कमली की मां को खूब पहचानती थी। रचना ने एकदम कहा-‘‘चाची ! सभी बहुएं एक जैसी नहीं होती। जैसी सास। वैसी बहू। अच्छी सास को ही अच्छी बहू मिलती है।’’
‘‘रचना की बच्ची। जबान लड़ाती है। तू कहना क्या चाहती है। यही न, कि मैं खराब हूं।’’ कमली की मां को गुस्सा आ गया।

मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


अनंत नाम जिज्ञासा
    अमृता प्रीतम

हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे
    शरद जोशी

मुल्ला नसरुद्दीन के किस्से
    मुकेश नादान

आधुनिक हिन्दी प्रयोग कोश
    बदरीनाथ कपूर

औरत के लिए औरत
    नासिरा शर्मा

वक्त की आवाज
    आजाद कानपुरी

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :