Subhash Chandra Bose - A Hindi Book by - Mukesh Nadan - सुभाष चन्द्र बोस - मुकेश नादान
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
Subhash Chandra Bose

सुभाष चन्द्र बोस

<<खरीदें
मुकेश नादान<<आपका कार्ट
मूल्य$ 1.95  
प्रकाशकए आर एस पब्लिशर्स एण्ड डिस्ट्रीब्यूटर्स
आईएसबीएन0000
प्रकाशितमार्च ०४, २००४
पुस्तक क्रं:5052
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Subhash Chandra Bosh A Hindi Book by Mukesh Nadan

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

सुभाष चन्द्र बोस

देश को ‘जयहिन्द’ का नारा देने वाले तथा इसी ललकार के साथ अंग्रेजों का डटकर सामना करने वाले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का नाम भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के महान क्रांतिकारी वीरों में बड़े सम्मान व श्रद्धा के साथ लिया जाता है। अत्यंत निडरता से सशस्त्र उपायों द्वारा सुभाष चन्द्र बोस ने जिस प्रकार अंग्रेजों का मुकाबला किया उसके जैसा अन्य कोई उदाहरण नहीं मिलता है।

महान देशभक्त और कुशल नेता सुभाष चन्द्र बोस की जीवन गाथा आज भी सभी के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है। सुभाष चन्द्र बोस का जन्म 23 जनवरी, वर्ष 1897 को कटक में हुआ था। इनके पिता रायबहादुर जानकी नाथ बसु प्रसिद्ध सरकारी वकील थे तथा समाज में उनकी बहुत प्रतिष्ठा थी।

सुभाष की माता प्रभावती देवी धार्मिक विचारों वाली समझदार घरेलू महिला थी। परिवार में सुख सुविधा के लगभग सभी साधन उपलब्ध थे, किन्तु सुभाष अपने बाल्यकाल से ही अपने परिवार के सुखमय वातावरण और परिजनों से अलग खोए-खोए से रहते थे।

मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


रानी लक्ष्मीबाई
    वृंदावनलाल वर्मा

संगम, प्रेम की भेंट
    वृंदावनलाल वर्मा

मृगनयनी
    वृंदावनलाल वर्मा

माधवजी सिंधिया
    वृंदावनलाल वर्मा

अहिल्याबाई, उदयकिरण
    वृंदावनलाल वर्मा

मुसाहिबजू, रामगढ़ की कहानी
    वृंदावनलाल वर्मा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :