Azadi ki Ladai Mein Azad Hind Fauz - A Hindi Book by - Shishir Kumar Basu - आजादी की लड़ाई में आजाद हिन्द फौज - शिशिर कुमार बसु
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
Azadi ki Ladai Mein Azad Hind Fauz

आजादी की लड़ाई में आजाद हिन्द फौज

<<खरीदें
शिशिर कुमार बसु<<आपका कार्ट
मूल्य$ 2.95  
प्रकाशकनेशनल बुक ट्रस्ट,इंडिया
आईएसबीएन81-237-2910-3
प्रकाशितजनवरी ०१, २००४
पुस्तक क्रं:484
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Azadi ki Ladai Mein Azad Hind Fauz - A hindi Book by - Shishir Kumar Basu आजादी की लड़ाई में आजाद हिन्द फौज - शिशिर कुमार बसु

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

एक

हमारे देश के पांच हजार वर्षों के इतिहास को अच्छी तरह समझने के बाद नेताजी सुभाषचन्द्र बोस नतीजों पर पहुंचे थे।
पहली बात, जिस पर उन्होंने ध्यान दिलाया था कि दूसरे देशों और जातियों की भांति ही हम लोगों का भी इतिहास बनने और बिगड़ने का रहा है।

दूसरी बात, हम लोगों का पतन भी तभी हुआ जब देश और जाति के लिए हम लोगों ने सोचना-विचारना ही नहीं छोड़ा बल्कि अपनी सैनिक ताकत की कमजोरी का फायदा उठाकर दो सौ साल पहले अंग्रेजों ने व्यापार के बहाने हमारे देश में अपनी जड़े मजबूत कर लीं।

सन् 1857 में देश के अलग-अलग जगहों में छिटपुट रूप में अंग्रेजों के खिलाफ सैनिक आंदोलन छेड़ा गया, जिसे सिपाही विद्रोह के रूप में जाना जाता है। लेकिन एक संगठन कुशल अच्छे नेता के अभाव में यह विद्रोह असफल हो गया।

इसके बाद अंग्रजों ने हमसे हमारे हथियार रखवा लिए और ब्रिटिश शासन की राजधानी लंदन से इस देश पर शासन चलाने लगे। उन्होंने पूरे देश की हुकूमत और भारतीय सेनाओं के प्रशासन को अपने हाथ में ले लिया। इसका परिणाम यह हुआ कि इतिहास में पहली बार भारतवासी पूरी तौर से किसी विदेशी ताकत का गुलाम बनने के लिए विवश हो गए।


मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


रानी लक्ष्मीबाई
    वृंदावनलाल वर्मा

संगम, प्रेम की भेंट
    वृंदावनलाल वर्मा

मृगनयनी
    वृंदावनलाल वर्मा

माधवजी सिंधिया
    वृंदावनलाल वर्मा

अहिल्याबाई, उदयकिरण
    वृंदावनलाल वर्मा

मुसाहिबजू, रामगढ़ की कहानी
    वृंदावनलाल वर्मा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :