571 Dhruva Aur Ashtavakra - A Hindi Book by - Anant Pai - 571 ध्रुव और अष्टावक्र - अनन्त पई
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
ऑडियो सी.डी. एवं डी. वी. डी.
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

सितम्बर ०९, २०१३
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

571 Dhruva Aur Ashtavakra

571 ध्रुव और अष्टावक्र

<<खरीदें
अनन्त पई<<आपका कार्ट
मूल्य$2.45  
प्रकाशकइंडिया बुक हाउस लिमिटेड
आईएसबीएन81-7508-477-4
प्रकाशितजनवरी ०१, २००६
पुस्तक क्रं:4801
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Dhurva Aur Ashtavak A Hindi Book by Anant Pai

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

ध्रुव

ध्रुव की कथा भागवत पुराण से ली गयी है। केवल पाँच वर्ष की नन्हीं उम्र में ही ध्रुव ने भगवान् विष्णु की कृपा प्राप्त करने के लिए तपस्या की थी। बालक की अद्भुत भक्ति से प्रसन्न हो कर भगवान् ने उसे दर्शन दिये। उसे वरदान दिया कि वह छत्तीस हज़ार वर्ष तक पृथ्वी पर राज्य करेगा। आज भी परंपरावादी हिंदू उत्तर दिशा में टिमटिमानेवाले एक अचल तारे को ध्रुव नक्षत्र कह कर पुकारते हैं।

विष्णु पुराण के अनुसार ध्रुव की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान् ने उसे वह स्थान दिया, जो तीनों लोकों में सबसे महान है। सभी ग्रहों, सब नक्षत्रों और सब देवगणों से श्रेष्ठ है।

अष्टावक्र की कथा महाभारत से ली गयी है। अज्ञातवास के समय पांडवों ने अनेक तीर्थों के दर्शन किये थे। जब वे श्वेतकतु के आश्रम पर पहुँचे, तो उनके साथ आये हुए लोमश ऋषि ने श्वेतकेतु के भांजे अष्टावक्र की यह कथा पांडवों को सुनाई थी।

राजा उत्तानपाद की बड़ी रानी सुनीति के पुत्र का नाम ध्रुव था। माँ-बेटे का ऐसा दुर्भाग्य कि छोटी रानी सुरुचि के प्रति राजा की प्रेमांधता के कारण इन दोनों की उपेक्षा होती थी।
वे आ रही हैं रानी सुरुचि।

इनका तो बस एक ही लक्ष्य है कि किसी तरह इनका बेटा उत्तम ही राजा बन जाये। बेचारा ध्रुव !
सुरुचि अपने बेटे के पास गयीं, तो वह बोला-
माँ, इस समय पिताजी खाली बैठे हैं। मैं जा कर उनकी गोदी में बैठ जाऊँ।
ज़रूर बैठो, मेरे मुन्ने ! भावी राजा का उस गोद पर पूरा अधिकार है।


मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


मेरा दावा है
    सुधा ओम ढींगरा

धूप से रूठी चाँदनी
    सुधा ओम ढींगरा

कौन सी जमीन अपनी
    सुधा ओम ढींगरा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

मई १८, २०१३
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :