563 Rana Pratap - A Hindi Book by - Anant Pai - 563 राणा प्रताप - अनन्त पई
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
563 Rana Pratap

563 राणा प्रताप

<<खरीदें
अनन्त पई<<आपका कार्ट
मूल्य$ 2.45  
प्रकाशकइंडिया बुक हाउस लिमिटेड
आईएसबीएन81-7508-491-X
प्रकाशितदिसम्बर ०१, २००७
पुस्तक क्रं:4797
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Rana Pratap A Hindi Book by Anant Pai

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

राणा प्रताप

सन् 1556 में जब अकबर मुगल-साम्राज्य की गद्दी पर बैठा, तब तक मुगल भारतीय जन-जीवन के अंग बन चुके थे। विजेता के रूप में अकबर एक अत्यन्त सफल सम्राट साबित हुआ। सम्पूर्ण उत्तर भारत पर अपनी विजय का पताका फहराते हुए उसने अपने साम्राज्य में गुजरात, बंगाल, उड़ीसा, कश्मीर तथा सिन्ध को भी शामिल कर लिया।

मध्य भारत और दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों पर विजय प्राप्त करने में भी वह सफल रहा। अपने साम्राज्य को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए उसने हिन्दुओं को काफी सुविधाएँ प्रदान कीं। उसने एक राजपूत कन्या से विवाह भी किया। उसके इन कार्य-कलापों से प्रभावित हो कर काफ़ी राजपूतों ने अकबर को अपनी सेवाएँ अर्पित करके उसके सम्मान की वृद्धि की। इस सबके बावजूद, अकबर एक विदेशी आक्रमणकारी का पौत्र था और अपने पिता के समान ही एक सफल विजेता भी।

जिस समय सम्पूर्ण उत्तर भारत अकबर के चरणों में नत हो चुका था उस समय राणा प्रताप ही एक मात्र ऐसे व्यक्ति थे जो अकबर के सम्मुख सीना तानकर खड़े हुए। उन्होंने अकबर की सत्ता को स्वीकारने से साफ इन्कार कर दिया। अगर वे थोड़ा झुक जाते तो शायद वे भी अकबर के दरबार में सम्मान और ऐश-आराम का जीवन बिता सकते।

परन्तु उन्होंने अपने सुख और सुविधा से अधिक महत्त्व अपने सम्मान को दिया। उन्हें प्राणों से भी बढ़ कर स्वतंत्रता प्यारी थी। राणा की शक्ति अकबर की विशाल सैन्यवाहिनी की तुलना में बहुत ही कम थी। परन्तु वे जंगलों में रहे, कठिनाइयों से जूझते रहे जिससे उनके स्वतंत्रता संग्राम को और भी बल मिला।

संक्षेप में, भारत की ओजमयी देशभक्ति की उदास भावना के संदर्भ में राणा प्रताप का नाम सर्वोच्च स्थान पर प्रतिष्ठित किये जाने योग्य है। आगे के पृष्ठों में उन्हीं राणा प्रताप की शौर्य गाथा का वर्णन है।


मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


रानी लक्ष्मीबाई
    वृंदावनलाल वर्मा

संगम, प्रेम की भेंट
    वृंदावनलाल वर्मा

मृगनयनी
    वृंदावनलाल वर्मा

माधवजी सिंधिया
    वृंदावनलाल वर्मा

अहिल्याबाई, उदयकिरण
    वृंदावनलाल वर्मा

मुसाहिबजू, रामगढ़ की कहानी
    वृंदावनलाल वर्मा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :