651 Baddu Aur Chhotu Ke Karname - A Hindi Book by - Anant Pai - 651 बड्डू और छोटू के कारनामे - अनन्त पई
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
651 Baddu Aur Chhotu Ke Karname

651 बड्डू और छोटू के कारनामे

<<खरीदें
अनन्त पई<<आपका कार्ट
मूल्य$ 2.45  
प्रकाशकमनोज पब्लिकेशन
आईएसबीएन81-7508-494-4
प्रकाशितजनवरी ०१, २००७
पुस्तक क्रं:4778
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Baddu Aur Chhotu Ke Karname-A Hindi Book by Anant Pai - बड्डू और छोटू के कारनामे - अनन्त पई

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश


कहानियां बच्चे तो चाव से सुनते ही है, बड़ों को भी उनमें कम दिलचस्पी नहीं होती, खास कर उन कहानियों में जो आदमी के जीवन के नजदीक होती हैं। इस दिलचस्पी के कारण ही हमारे यहाँ जबानी कही–सुनी कहानियाँ पीढि़यों से चली आ रही हैं।

ज़बानी कहानी जितनी बार दोहराई जाती है उतनी बार उसमें कुछ नये-नये रंग भर जाते हैं। आज बूढी दादी जो कहानी अपने नाती पोतों को सुनाती हैं। उसे अपने बचपन में उन्होंने अपनी नानी-दादी से सुना होगा। दूर से आने वाले परदेशी को रास्ते में कोई कहानी सुनने को मिलती है तो वह घर लौटकर अपने संबधियों और साथियों को वही कहानी सुनाता है। परंतु देश काल के अनुसार उसमें कुछ अपनी तरफ से जोड़ देता है। इस तरह कहानियां एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पहुँचने के साथ देश-विदेश में भी पहुँचती है। यही कारण है कि विष्णु शर्मा की पंचतन्त्र की कुछ कथाएं ईसप की कथाओं से इतनी मिलती जुलती हैं।
इस अमर चित्र कथा में बंगाल की सर्वप्रिय लोक-कथाओं में एक प्रस्तुत है।

बड्डू और छोटू के कारनामे


एक दिन दो दोस्त काम की तलाश में निकल पड़े।
बड्डू, उस सामने वाले गाँव में हमें कोई-न-कोई काम मिलना ही चाहिए।
हां छोटू, उम्मीद तो यही है।
बाद में
तुम उस ओर जाओ ....
और मैं इस ओर जाता हूँ। शाम को हम दोनों यहीं पर मिलेंगे
ठीक है

मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


अनंत नाम जिज्ञासा
    अमृता प्रीतम

हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे
    शरद जोशी

मुल्ला नसरुद्दीन के किस्से
    मुकेश नादान

आधुनिक हिन्दी प्रयोग कोश
    बदरीनाथ कपूर

औरत के लिए औरत
    नासिरा शर्मा

वक्त की आवाज
    आजाद कानपुरी

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :