Veer Shivaji - A Hindi Book by - Kapil - वीर शिवाजी - कपिल
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
Veer Shivaji

वीर शिवाजी

<<खरीदें
कपिल<<आपका कार्ट
मूल्य$ 1.95  
प्रकाशकप्रतिभा प्रतिष्ठान
आईएसबीएन81-88266-32-9
प्रकाशितफरवरी ०३, २००५
पुस्तक क्रं:3908
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Veer Shivaji A Hindi Book by Kapil

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

छत्रपति शिवाजी

हिन्दू स्वराज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी का जन्म 16 अप्रैल, 1627 को शिवनेरी के दुर्ग में हुआ था। उनके पिता का नाम शाहजी भोंसले और माता का नाम जीजाबाई था।

भारत में उस समय मुस्लिम शहंशाहों के नाम की तूती बोलती थी। हिन्दू योद्धा उनके लिए अपने ही भाइयों का खून बहा रहे थे और मुसलिम शासकों को खुश करने में लगे हुए थे। खून हिन्दुओं का बहता था, राज मुसलमान करते थे।
शिवाजी के जन्म के समय उनके पिता शाहजी भोंसले बागी मुगल सरदार दरिया खाँ रोहिल्ला से युद्ध करने के लिए दक्षिण में गए हुए थे, इसलिए वे पुत्र के जन्म की खुशियों में शामिल होने के लिए तुरंत शिवनेरी नहीं आ सके।

बाद में रोहिल्ला का वध करने के बाद वे गाजे-बाजे के साथ अपने पुत्र को देखने शिवनेरी पहुँचे। अपने सुंदर और तेजस्वी पुत्र को देखकर उन्हें बेहद खुशी हुई, लेकिन वे ज्यादा दिनों तक पुत्र के पास नहीं रह सके। मुगल बादशाह शाहजहाँ के बुलाने पर वे दक्षिण की ओर चले गए।

शिवाजी का बचपन पिता के प्यार से वंचित रह गया। माता जीजाबाई ने अकेले ही अपने बेटे का लालन-पालन किया। उनके साथ उनके श्वसुर भी रहते थे। वे अपने पोते को बहुत प्यार करते थे। वे शिवाजी को भगवान् शिव का अवतार मानते थे। उन तीनों की देखभाल के लिए शिवनेरी महाराज ने विशेष सुविधाएँ प्रदान कर रखी थीं;

किन्तु पति से अलग रहने की पीड़ा जीजा बाई को सताती रहती थी। वे अपना पूरा समय अपने बेटे के पालन-पोषण में लगाती थीं। अपने बेटे को अच्छे संस्कारों में ढालते हुए वे सुनहरे भविष्य के लिए ईश्वर से प्रार्थना करती थीं।


मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


मेरा दावा है
    सुधा ओम ढींगरा

धूप से रूठी चाँदनी
    सुधा ओम ढींगरा

कौन सी जमीन अपनी
    सुधा ओम ढींगरा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :