Shiksha Tatha lok Vyavahar - A Hindi Book by - Maharishi Dayanand Saraswati - शिक्षा तथा लोक व्यवहार - महर्षि दयानन्द सरस्वती
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
ऑडियो सी.डी. एवं डी. वी. डी.
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

सितम्बर ०९, २०१३
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

Shiksha Tatha lok Vyavahar

शिक्षा तथा लोक व्यवहार

<<खरीदें
महर्षि दयानन्द सरस्वती<<आपका कार्ट
मूल्य$ 8.95  
प्रकाशककिताबघर प्रकाशन
आईएसबीएन9789380631080
प्रकाशितफरवरी ०४, २०११
पुस्तक क्रं:3414
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Shiksha Tatha lok Vyavahar - A Hindi Book by Maharishi Dayanand Saraswati

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

भूमिका

मैंने इस संसार में परीक्षा करके निश्चय किया है कि जो धर्मयुक्त व्यवहार में ठीक-ठीक बरतता है उसको सर्वत्र सुख, लाभ और जो विपरीत बरतता है वह सदा दुखी होकर अपनी हानि कर लेता है। देखिए, जब कोई मनुष्य विद्वानों की सभा में वा किसी के पास जाकर अपनी योग्यता के अनुसार नम्रतापूर्वक ‘नमस्ते’ आदि करके बैठके दूसरे की बात ध्यान से सुन, उसका सिद्धांत जान, निरभिमानी होकर युक्त उत्तर-प्रत्युत्तर करता है, तब सज्जन लोग प्रसन्न होकर उसका सत्कार और जो अंडबंड बकता है उसका तिरस्कार करते हैं।

जब मनुष्य धार्मिक होता है, तब उसका विश्वास और मान्य शत्रु भी करते हैं और जब अधर्मी होता है, तब उसका विश्वास और मान्य मित्र भी नहीं करते। इससे जो थोड़ी विद्या वाला भी मनुष्य श्रेष्ठ शिक्षा पाकर सुशील होता है, उसका कोई भी कार्य नहीं बिगड़ता।

इसलिए मैं मनुष्यों को उत्तम शिक्षा के अर्थ सब वेदादिशास्त्र और सत्याचारी विद्वानों की रीति से युक्त इस ग्रंथ को बनाकर प्रकट करता हूँ कि जिसको देख-दिखा, पढ़-पढ़ाकर मनुष्य अपने और अपनी संतान तथा विद्यार्थियों का आचार अत्युत्तम करें, कि जिससे आप और वे सब दिन सुखी रहें।

इस ग्रंथ में कहीं-कहीं प्रमाण के लिए संस्कृत और सुगम भाषा और अनेक उपयुक्त दृष्टांत देकर सुधार का अभिप्राय प्रकाशित किया, जिसको सब कोई सुख से समझ अपना-अपना स्वभाव सुधार, उत्तम व्यवहार को सिद्ध किया करें।

- दयानन्द सरस्वती

मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


महासमर
    नरेन्द्र कोहली

लावण्यदेवी
    कुसुम खेमानी

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

मार्च १५, २०१५
गूगल प्ले बुक्स
आगे...
मई १८, २०१३
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

एप्पल आई बुक्स

 एप्पल यंत्रों पर हिन्दी पुस्तकें पढ़ें

आगे...

Font :