1360 Tu-hi-Tu - A Hindi Book by - Swami Ramsukhadas - तू-ही-तू - स्वामी रामसुखदास
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

सितम्बर ०९, २०१३
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

1360 Tu-hi-Tu

तू-ही-तू

<<खरीदें
स्वामी रामसुखदास<<आपका कार्ट
मूल्य$ 1.95  
प्रकाशकगीताप्रेस गोरखपुर
आईएसबीएन00000
प्रकाशितजनवरी ०१, २००४
पुस्तक क्रं:1118
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Tu Hi Tu -A Hindi Book by Swami Ramsukhdas तू-ही-तू -स्वामी रामसुखदास

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

।।ॐ श्रीपरमात्मने नम:।।

तू-ही-तू (1)

उपनिषद् में आता है कि आरम्भ में एकमात्र अद्वितीय सत् ही विद्यमान था-‘सदेव सोम्येदमग्र आसीदेकमेवाद्वितीयम्’ (छान्दोग्य. 6/2/1)।
वह एक ही सत्स्वरूप परमात्म तत्त्व एक से अनेकरूप हो गया-

(1)    सदैक्षत बहु स्यां प्रजायेयेति।

(छान्दोग्य. 6/2/3)

(2) सोऽकामयत बहु स्यां प्रजायेयेति।

(तैत्तिरीय. 2/6)

(3) एको वशी सर्वभूतान्तरात्मा एकं रूपं बहुधा य: करोति।

(कठ. 2/2/12)

एक से अनेक होने पर भी वह एक ही रहा, उसमें नानात्व नहीं आया-


(1)    ‘नेह नानास्ति किंचन’

(बृहदारण्यक. 4/4/19, कठ. 2/1/11)

(2)    ‘एकोऽपि सन् बहुधा यो विभाति’

(गोपालपूर्वतापनीयोपनिषद्)

(3)    ‘यत्साक्षादपरोक्षाद् ब्रह्म’

(बृहदारण्यक. 3/4/1)

(4) ‘सर्वं खल्विदं ब्रह्म’

(छान्दोग्य. 3/14/1)

(5) ‘ब्रह्मवेदं विश्वमिदम्’

(मुण्डक. 2/2/19)

इसलिये श्रीमद्भागवत गीता में भगवान् ने ब्रह्माजी से कहा है-

अहमेवासमेवाग्रे नान्यद् यत् सदसत् परम।
पश्चादहं यदेतच्च योऽवशिष्येत सोऽस्म्यहम्।।

(2/9/32)

‘सृष्टिके पहले भी मैं ही था, मुझसे भिन्न कुछ भी नहीं था। सृष्टि के उत्पन्न होने के बाद जो कुछ भी यह दृश्यवर्ग है, वह मैं ही हूँ। जो सत्, असत् और उससे परे है, वह सब मैं ही हूँ। सृष्टि के बाद भी मैं ही हूँ और इन सबका का नाश हो जाने पर जो कुछ बाकी रहता है, वह भी मैं ही हूँ।’


मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


नटखट बछिया
    हेमलता

सो तो है
    अशोक चक्रधर

करनी का फल
    गुरबचन कौर नन्दा

गिलिगडु
    चित्रा मुदगल

चतुर कौन
    गीता आयंगर

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

मार्च १५, २०१५
गूगल प्ले बुक्स
आगे...
मई १८, २०१३
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

एप्पल आई बुक्स

 एप्पल यंत्रों पर हिन्दी पुस्तकें पढ़ें

आगे...

Font :