431 Swadheen Kaise Bane - A Hindi Book by - Swami Ramsukhadas - स्वाधीन कैसे बनें - स्वामी रामसुखदास
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
431 Swadheen Kaise Bane

स्वाधीन कैसे बनें

<<खरीदें
स्वामी रामसुखदास<<आपका कार्ट
मूल्य$ 1.95  
प्रकाशकगीताप्रेस गोरखपुर
आईएसबीएन81-293-0782-0
प्रकाशितजनवरी ०१, २००५
पुस्तक क्रं:1107
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Swadhin Kaise Bane -A Hindi Book by Swami Ramsukhdas - स्वाधीन कैसे बनें - स्वामी रामसुखदास

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

।।श्रीहरि:।।

नम्र निवेदन

परमश्रद्धेय स्वामीजी श्रीरामसुखदासजी महाराज द्वारा दिये गये कुछ प्रवचनों का संग्रह प्रकाशित किया जा रहा है। ये प्रवचन साधक के लिये बहुत ही उपयोगी हैं। परमात्म प्राप्ति में मुख्य बाधा दूर करने के सुगम-से-सुगम अनेक उपाय इन प्रवचनों में समझाये गये हैं। साधक अपनी रुचि के अनुसार कोई भी उपाय काम में लेकर सुगमता से परम लक्ष्य की प्राप्ति कर सकते हैं।
पारमार्थिक रुचि रखने वाले सभी साधकों के लिये यह सुनहरा अवसर है कि वे इन प्रवचनों को समझ-समझकर पढ़ें और अपने काम में लाकर परमलाभ लें।

विनीत
प्रकाशक

।।श्रीहरि:।।

पराधीनता से छूटने का उपाय


(सींथल में 15-4-86 को दिया हुआ प्रवचन)

पराधीनता सबको बुरी लगती है। पराधीन मनुष्य को स्वप्रेम भी सुख नहीं मिलता-‘पराधीन सपनेहुँ सुखु नाहीं’ (मानस 1/102/3)। ऐसा होने पर भी मनुष्य दूसरे से सुख चाहता है, दूसरे से मान चाहता है, दूसरे से प्रशंसा चाहता है, दूसरे से लाभ चाहता है-यह कितने आश्चर्य की बात है ! वस्तु से, व्यक्ति से परस्थिति से, घटना से, अवस्था से, जो सुख चाहता है, आराम चाहता है, लाभ चाहता है, उसको पराधीन होना ही पड़ेगा, बच नहीं सकता, चाहे ब्रह्मा हो, इन्द्र हो, कोई भी हो। मैं तो यहाँ तक कहता हूँ कि भगवान् भी बच नहीं सकते। जो दूसरों से कुछ भी चाहता है, वह पराधीन होगा ही।

परमात्मा को चाहने वाले पराधीन नहीं होता; क्योंकि परमात्मा दूसरे नहीं हैं। जीव तो परमात्मा का साक्षात् अंश है। परन्तु परमात्मा के सिवाय दूसरी चीज हम चाहेंगे तो पराधीन हो जायँगे; क्योंकि परमात्मा के सिवाय दूसरी चीज अपनी है नहीं। दूसरी चीज की चाहना न होने से ही परमात्मा की चाहना पैदा होती है। अगर दूसरी चीज की चाहना न रहे तो परमात्मा-प्राप्ति हो जाय।

मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


रानी लक्ष्मीबाई
    वृंदावनलाल वर्मा

संगम, प्रेम की भेंट
    वृंदावनलाल वर्मा

मृगनयनी
    वृंदावनलाल वर्मा

माधवजी सिंधिया
    वृंदावनलाल वर्मा

अहिल्याबाई, उदयकिरण
    वृंदावनलाल वर्मा

मुसाहिबजू, रामगढ़ की कहानी
    वृंदावनलाल वर्मा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :