445 Hum Eshwar ko Kyon Manen - A Hindi Book by - Swami Ramsukhadas - हम ईश्वर को क्यों मानें - स्वामी रामसुखदास
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

अगस्त ०३, २०१४
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
445 Hum Eshwar ko Kyon Manen

हम ईश्वर को क्यों मानें

<<खरीदें
स्वामी रामसुखदास<<आपका कार्ट
मूल्य$ 1.95  
प्रकाशकगीताप्रेस गोरखपुर
आईएसबीएन81-293-0915-7
प्रकाशितजनवरी ०१, २००६
पुस्तक क्रं:1106
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Hum Eshwar Ko Kyon Manen -A Hindi Book by Swami Ramsukhdas - हम ईश्वर को क्यों मानें - स्वामी रामसुखदास

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

अन्य दर्शनों की अपेक्षा गीता में ईश्वरवाद विशेषरूप से आया है। न्याय, वैशेषिक, योग, सांख्य, पूर्वमीमांसा और उत्तरमीमांसा—ये छहों दर्शन केवल जीव के कल्याण के लिए ही हैं, परंतु इनमें ईश्वर का वर्णन मुख्यता से नहीं हुआ है। इनमें से ‘न्यायदर्शन’ में ‘जो कुछ होता है, वह सब ईश्वरकी इच्छा से ही होता है ’—इस तरह ईश्वर का आदर तो किया गया है, पर मुक्तिमें वह ईश्वर की आवश्यकता नहीं मानता। वह इक्कीस प्रकार के दुःखों के ध्वंस को ही मुक्ति बताता है। ‘वैशेषिकदर्शन’ में भी जीव के कल्याण के लिये ईश्वरकी आवश्यकता न बताकर आध्यात्मिक, आधिदैविक और आधिभौतिक—इन तीनों तापों का नाश बताया गया है। ‘योगदर्शन’ में मुख्य रूप से चित्तवृत्तियों के निरोध की बात आयी है। चित्तवृत्तियों के निरोध से स्वरूप में स्थिति हो जाती है। हाँ, चित्तवृत्ति-निरोध में ईश्वरप्रणिधान-(शरणागति-) को भी एक उपाय बताया गया है, पर इस उपाय की प्रधानता नहीं है। ‘सांख्यदर्शन’ और ‘पूर्वमीमांसादर्शन’ तो जीव के कल्याण के लिये ईश्वर की कोई आवश्यकता ही नहीं समझते। ‘उत्तरमीमांसा’—(वेदान्तदर्शन-) में ईश्वर की बात विशेषरूप से नहीं आयी है, प्रत्युत जीव और ब्रह्म की एकता की बात ही विशेषरूप से आयी है। वैष्णवाचार्यों ने भी ईश्वरकी विशेषता तो बतायी है, पर जैसी गीता ने बतायी है, वैसी नहीं बतायी।

गीता में ईश्वर-भक्ति की बात मुख्यरूप से आयी है। अर्जुन जबतक भगवान के शरण नहीं हुए, तबतक भगवान् ने उपदेश नहीं दिया। जब अर्जुन ने भगवान् के शरण होकर अपने कल्याण की बात पूछी, तब भगवान ने गीता का उपदेश आरम्भ किया। उपदेश के अन्त में भी भगवान् ने ‘मामेकं शरणं व्रज’ (18/66) कहकर अपनी शरणागति को अत्यन्त गोपनीय और श्रेष्ठ बताया और अर्जुन ने भी ‘करिष्यते वचनं तव’ (18/73) कहकर पूर्ण शरणागति को स्वीकार किया।

गीतोक्त कर्मयोगमें भी ईश्वर की आज्ञा-रूप से ईश्वर की मुख्यता आयी है; जैसे ‘कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।’ (2/47); ‘योगस्थः कुरु कर्माणि’ (2/48); ‘नियतं कुरु कर्म त्वम्’ (3/8); कुरु कर्मैव तस्मात्त्वम्’ (4/15) आदि-आदि। ऐसे ही गीतोक्त ज्ञानयोग में भी ईश्वरकी अव्यभिचारिणी भक्ति को ज्ञान-प्राप्ति का साधन बताया गया है (13/10;14/26)।
मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


मेरा दावा है
    सुधा ओम ढींगरा

धूप से रूठी चाँदनी
    सुधा ओम ढींगरा

कौन सी जमीन अपनी
    सुधा ओम ढींगरा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

अगस्त ०३, २०१४
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :