1440 Parampita se Prarthana - A Hindi Book by - Swami Ramsukhadas - परमपिता से प्रार्थना - स्वामी रामसुखदास
Hindi / English

शब्द का अर्थ खोजें

पुस्तक विषय
नई पुस्तकें
कहानी संग्रह
कविता संग्रह
उपन्यास
नाटक-एकाँकी
लेख-निबंध
हास्य-व्यंग्य
व्यवहारिक मार्गदर्शिका
गजलें और शायरी
संस्मरण
बाल एवं युवा साहित्य
जीवनी/आत्मकथा
यात्रा वृत्तांत
भाषा एवं साहित्य
प्रवासी लेखक
संस्कृति
धर्म एवं दर्शन
नारी विमर्श
कला-संगीत
स्वास्थ्य-चिकित्सा
योग
बोलती पुस्तकें
इतिहास और राजनीति
खाना खजाना
कोश-संग्रह
अर्थशास्त्र
वास्तु एवं ज्योतिष
सिनेमा एवं मनोरंजन
विविध
पर्यावरण एवं विज्ञान
पत्र एवं पत्रकारिता
ई-पुस्तकें
अन्य भाषा

मूल्य रहित पुस्तकें
सुमन
चन्द्रकान्ता
कृपया दायें चलिए
प्रेम पूर्णिमा
हिन्दी व्याकरण

मार्च १८, २०१३
पुस्तकें भेजने का खर्च
पुस्तकें भेजने के सामान्य डाक खर्च की जानकारी
आगे
1440 Parampita se Prarthana

परमपिता से प्रार्थना

<<खरीदें
स्वामी रामसुखदास<<आपका कार्ट
मूल्य$ 1  
प्रकाशकगीताप्रेस गोरखपुर
आईएसबीएन81-293-0992-0
प्रकाशितजनवरी २०, २००६
पुस्तक क्रं:1093
मुखपृष्ठ:अजिल्द

सारांश:
Param Pita Se Prathana-A Hindi Book by Swami Ramsukhdas - परमपिता से प्रार्थना - स्वामी रामसुखदास

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

प्रार्थना और शरणागति

भगवान् से प्रार्थना करना और उनके शरण होना-ये दो बातें तत्काल सिद्धि देने वाली हैं। कोई आफत आ जाय, दु:ख आ जाय, सन्ताप हो जाय, उलझन हो जाय तो आर्तभाव से ‘हे नाथ ! हे प्रभो !’ कहकर भगवान् को पुकारे, उनसे प्रार्थना करे तो तत्काल लाभ होता है।

परमपिता से प्रार्थना


जीवमात्र भगवान् का ही अंश है-‘ममैवांशो जीवलोके’ (गीता 15/7), ईस्वर अंस जीव अबिनासी। चेतन अमल सहज सुख रासी।।’ (मानस, उत्तर. 117/1)। अत: भगवान् पिता हैं और जीवमात्र उनका पुत्र है। पिता का स्वाभाविक ही पुत्र में प्रेम, अपनापन होता है। परन्तु जीव अपने परमपिता को भूलकर माया के वश में हो जाता है-
‘सो मायाबस भयउ गोसाईं। बँध्यो कीर मरकट की नाईं।।’ (मानस, उत्तर. 117/2)। अब वह अपने परमपिता भगवान् की कृपा से ही इस माया से छूट सकता है। हमारे परमपिता सर्वसमर्थ हैं। हमें माया के वश से छुड़ाने के लिये उनके समान कोई दूसरा है ही नहीं। इसलिये हमें अपने परमपिता से प्रार्थना करनी चाहिये।
हे परमपिता ! हे परमेश्वर ! आप इस माया से मेरे को छुड़ाओ। मैं अपनी शक्ति से छूट नहीं सकता। आप कहते हैं कि तुम्हारे में शक्ति है, पर हमें ऐसी शक्ति दीखती नहीं। आप में अपार, अनन्त, असीम शक्ति है, जिसका कोई पारावार नहीं है। ऐसी शक्ति के होते हुए मैं माया के परवश हो गया ! आप जरा सोचो। आप पिता हो न ? पिता को सोचना चाहिये न ? पुत्र की सहायता पिता ही करेगा, और कौन करेगा ? दूसरों को दया क्यों आयेगी ? परमपिता को ही तो दया आयेगी। इसलिये दया करके मेरे को बचाओ प्रभो ! आपके होकर किसको कहें ? आपसे अधिक समर्थ कौन है ? आपकी दृष्टि में कोई हो तो बता दो।


मुख्र्य पृष्ठ  

No reviews for this book..
Review Form
Your Name
Last Name
Email Address
Review
 

   

पुस्तक खोजें

चर्चित पुस्तकें


मेरा दावा है
    सुधा ओम ढींगरा

धूप से रूठी चाँदनी
    सुधा ओम ढींगरा

कौन सी जमीन अपनी
    सुधा ओम ढींगरा

  आगे

समाचार और सूचनाऍ

दिसम्बर १५, २०१३
हमारे संग्रह में ई पुस्तकें भी उपलब्ध हैं। कुछ ई-पुस्तकें यहाँ देखें।
आगे...

Font :